Monday, August 15, 2011

हम सब है बस हिन्दुस्तानी,हिन्दुस्तान हमारा है



ना मै हिन्दू,न मुस्लिम और ना मै राजस्थानी हूँ ,
मैं तो हूँ इक प्रेम की बोली,बस main हिन्दुस्तानी हूँ ,
कुर्सी से नहीं रिश्ता कोई और ना सत्ता से नाता,
मंच पिता है , श्रोता भाई, सरस्वती मेरी माता
जो इंसां में फ़र्क़ करे वो धर्म नहीं मेरा भाई ,
ज़ात - पात और नफ़रत की मैं खोद सकूंगी न खाई,


इसीलिए जो भी बोलूंगी, प्रेम की वोह होगी बोली,

नहीं उठेगी दर से मेरे नफ़रत की इक भी डोली,
मंदिर - मस्जिद तुम्हें मुबारक ,हमें आदमी है प्यारा,
भारत माँ का इक इक ज़र्रा ,हमें जान से है प्यारा ,


आज यहाँ पर
यही दुआएं तुमको देने आई हूँ,
भारत माँ की जानिब से इक वादा लेने आई हूँ ,
अगर देश से प्यार है तुमको,साथ मेरा देना जमकर,
और भले कुछ कर या मत कर, प्यार कभी भी मत कम कर,
आओ मिलकर प्यार से बोलें ये एलान हमारा है,
हम सब है बस हिन्दुस्तानी,हिन्दुस्तान हमारा है


Happy Indepedence day

33 comments:

  1. हम सब हैं हिन्दुस्तानी...उम्द रचना.

    स्वतंत्रता दिवस की बधाई एवं हार्दिक अभिनन्दन!!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. hyaa bahn apake blog par aakar achchaa lagaa or siikhne ko bhi bahut mila hai svtntrtaa divas mubark ho or zimmedari ise bachaane ki bhi hmari hi hai isliyen aaj ke haalaton se hm desh ko bchaayen is baare me bhi koi yojna tyyar karen..akhtar khan akela kota rajasthan

    ReplyDelete
  4. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाईयां

    ReplyDelete
  5. बहुत ख़ूब !!
    यौम ए आज़ादी मुबारक हो आप को भी

    ReplyDelete
  6. अगर देश से प्यार है तुमको,साथ मेरा देना जमकर,
    और भले कुछ कर या मत कर, प्यार कभी भी मत कम कर,
    आओ मिलकर प्यार से बोलें ये एलान हमारा है,
    हम सब है बस हिन्दुस्तानी,हिन्दुस्तान हमारा है

    वाह वाह वाह
    लता जी, गीत की हर लाइन...हर अल्फ़ाज़ समूचे देश के लिए ज़रूरी पैग़ाम दे रहा है...जिसकी आज बड़ी ज़रूरत है...
    योमे-आज़ादी की मुबारकबाद.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर गीत सुंदर पैगाम के साथ.

    स्वतन्त्रता दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. " umda rachana , aapko bhi swatantrata diwas ki dhero shubhkamnaye "


    http://eksacchai.blogspot.com/2011/08/blog-post_10.html

    ReplyDelete
  9. हम सब है बस हिन्दुस्तानी,हिन्दुस्तान हमारा है

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना, बहुत सार्थक प्रस्तुति
    , स्वाधीनता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
    मेरे ब्लॉग पर भी पधारने का कष्ट करें .

    ReplyDelete
  11. स्वतंत्रता दिवस की शुभकानाएं

    अगर देश से प्यार है तुमको,साथ मेरा देना जमकर,
    और भले कुछ कर या मत कर, प्यार कभी भी मत कम कर

    इस अनुपम रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  12. काश ! यही ज़ज्बा उस मल्लाह में भी होता जो हमारी नाव को खेने का वादा करके हमें रोज़ थोड़ा-थोड़ा डुबो रहा है.
    आप जैसे लोग हैं जो हिम्मत बंधाने का काम करते हैं ........आपको नमन ! ! !

    ReplyDelete
  13. स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  14. स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. ~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~


    लता हया जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    लिखती तो आप हमेशा ही अच्छा हैं
    ना मै हिन्दू , ना मुस्लिम और ना मै राजस्थानी हूं ,
    मैं तो हूं इक प्रेम की बोली , बस मैं हिन्दुस्तानी हूं ,

    वाह ! बहुत सुंदर ! साधुवाद !

    समय निकाल कर कभी कहीं किसी का मान बढ़ाने , मन रखने के लिए भी आया-जाया कीजिए …


    रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ

    -राजेन्द्र स्वर्णकार



    ~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

    ReplyDelete
  16. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete
  17. आओ मिलकर प्यार से बोलें ये एलान हमारा है,
    हम सब है बस हिन्दुस्तानी,हिन्दुस्तान हमारा है
    bahut hi pyara ellan hai......

    ReplyDelete
  18. मंदिर - मस्जिद तुम्हें मुबारक ,हमें आदमी है प्यारा,

    bahut sahi baat kahi hai, shubhaanallaah.....

    ReplyDelete
  19. hamesha ki tarah shaandaar rachana.......lata.

    ReplyDelete
  20. कुर्सी से नहीं रिश्ता कोई और ना सत्ता से नाता,
    मंच पिता है , श्रोता भाई, सरस्वती मेरी माता

    deshprem or manviy mooloyn se sarabor rachna par bandhai swikaren

    ReplyDelete
  21. आओ हम सब बोले जम कर हिंदुस्तान हमारा है । बहुत सुंदर हया जी । यही जज्बा हम सब के दिल में कायम हो ।

    ReplyDelete
  22. सुंदर गीत व भाव।प्रेम और भाईचारा तो हमारी आत्मा में रचा-बसा है। यही सच्ची भारतीय संस्कृति और भारतीय सभ्यता है।

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर , सार्थक प्रस्तुति,आभार.

    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारने का कष्ट करें .

    ReplyDelete
  25. mam its great,,,
    hats off to u 4 this creation
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  26. Excellent page, I will be checking back often to find up-grades.

    From everything is canvas

    ReplyDelete
  27. लता जी, अभिवादन।
    आपने मेरी पीड़ा को अपनी कविता में जगह दी, धन्यवाद।
    एवं इतनी सुन्दर रचना के लिये अनेकानेक बधाई।

    ReplyDelete
  28. बहुत सराहनीय प्रस्तुति.
    बहुत सुंदर बात कही है इन पंक्तियों में. दिल को छू गयी. आभार !


    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  29. बहुत ही अच्छा लिखा है आपने लताजी | बधाई

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  30. लता जी अगर आपको याद होगा शायद की मैं सुरु से ही आपका प्रशंशक रहा हूँ.
    लेकिन बस यूँ ही एक दिन यू tube पर आपकी कई नज़में सुनते सुनते ये मिल गया
    लता जी अगर आपको याद होगा शायद की मैं सुरु से ही आपका प्रशंशक रहा हूँ.
    लेकिन बस यूँ ही एक दिन यू tube पर आपकी कई नज़में सुनते सुनते ये मिल गया
    https://www.youtube.com/watch?v=R3PXepxeW6I
    बस ये कहना था की आपसे ऐसी उम्मीद न थी की चाँद तालियों के वास्ते आप सद्दाम और लादेन की तारीफ कर बैठेगी. शर्म ... खैर इतना ही कहना था. बस ये कहना था की आपसे ऐसी उम्मीद न थी की चाँद तालियों के वास्ते आप सद्दाम और लादेन की तारीफ कर बैठेगी. शर्म ... खैर इतना ही कहना था.

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)