Thursday, January 5, 2012

कभी किरदार भी बदलो


आदाब ,आप सब को नया साल बहुत बहुत मुबारक हो .

नए साल में कई मुशायरे पढ़े .वक़्त की पाबन्दी ने इन महफिलों की रौनक़ छीन ली है , १२ बजे से पहले मुशायरे ख़त्म हो जाते हैं जबकि पहले १२ बजे मुशायरे शुरू हुआ करते थे , उस पर सितम ये के organisers (मुन्तज़मिन) को दिन दिन भर permission लेने के लिए भटकना पड़ता है . ये सवाल हर अदब नवाज़ को परेशां करता है कि ऐसा क्यूँ ?
जहां से मुहब्बत , यकजहती का पैग़ाम जाता है , उन महफिलों पर ये पाबंदी क्यूँ? पाबन्दी ही लगानी है तो बहुत से बुरे शोह्बे हैं . बहरहाल अर्ज़ किया है :-

कैलेंडर ही बदलते हो ,कभी किरदार भी बदलो
गुज़िश्ता साल के ख्वाजासरा सालार भी बदलो
जो मेहेंगाई नहीं रोके , हिफाज़त भी ना कर पाए
किसी दल की भी हो ,ऐसी लचर सरकार को बदलो

ख्वाजासरा सालार : नपुंसक सैनिक

बदलने से कभी तारीख़ क्या तक़दीर बदली है
गुज़रते वक़्त ने बस उम्र की तनवीर बदली है
ना जाने जश्न साले नौ का ये क्यों कर मनाते हैं
ये मग़रिब के असर ने हिंद की तस्वीर बदली है

तनवीर: रौनक , मगरिब: पश्चिम

इधर उर्दू की महफ़िल पर तो ये बंदिश लगाते हैं
उधर मुन्नी को सारी रात होटल में नचाते हैं
अदब को भी मुसलमाँ जान महफ़िल में पुलिस आये
उधर खुद बेहयाई से ये पीते और पिलाते हैं


मेरी उर्दू जलेबी बाई तो हो ही नहीं सकती
ओ' शीला की जवानी में कभी खो ही नहीं सकती
लगाती हूँ मै तुमसे शर्त के तुम लाख सर पीटो
क़यामत तक रहेगी, ये फ़ना हो ही नहीं सकती


तो जब हर मोड़ पर , हर जा करप्शन ही करप्शन है
तो फिर बेकार हैं नारे , अजी बेकार अनशन है
फ़क़त बिल पास होने से बुराई रुक नहीं सकती
मगर अल्हमदुल्लिल्लाह , याँ " हया" होना भी इक फ़न है
अल्हमदुल्लिल्लाह : खुदा का शुक्र है

41 comments:

  1. बदलाव जीवन का एक सच है।

    ReplyDelete
  2. लगाती हूँ मै तुमसे शर्त के तुम लाख सर पीटो
    क़यामत तक रहेगी, ये फ़ना हो ही नहीं सकती
    बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  3. तो जब हर मोड़ पर , हर जा करपशन ही करपशन है
    तो फिर बेकार हैं नारे , अजी बेकार अनशन है
    फ़क़त बिल पास होने से बुराई रुक नहीं सकती

    ReplyDelete
  4. Bahut dinon baad aap nazar aayeen hain blog pe!
    Naya saal aapko bhee bahut,bahut mubarak ho!

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बेहतरीन पोस्ट.......

    ReplyDelete
  6. बहुत दिनों बाद
    बहुत अच्छी पोस्ट !!!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  8. मेरी उर्दू जलेबी बाई तो हो ही नहीं सकती
    और शीला की जवानी में कभी खो ही नहीं सकती
    लगाती हूँ मै तुमसे शर्त के तुम लाख सर पीटो
    क़यामत तक रहेगी, ये फ़ना हो ही नहीं सकती
    wah.....itne dinon baad badi khoobsurti lekar aayeen......

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्छा लग रहा है आपको पुन: ब्लॉग पर देखकर… बहुत लम्बा इंतज़ार करवाकर आप हाज़िर हुई हैं और बहुत ही अच्छी पोस्ट के साथ… नए साल की बहुत बहुत शुभकामनाएं…

    ReplyDelete
  10. नया साल मुबारक

    ReplyDelete
  11. बहुत दिनों बाद ही सही पर नववर्ष के शुभ अवसर पर आपका अपने ब्लॉग पे आना साल की अच्छी शुरुआत है / आपके ब्लॉग ने मेरे नजरिये को बदला और नयी उर्जा दी है / कुछ सीखने के लिए भी मिलता है, इसलिए आपके नए पोस्ट का हमें हमेशा इंतजार रहता है / नए पोस्ट के कुछ कठिन शब्दों को मैं समझ नहीं पाया हो सके तो शब्दार्थ लिख दिया करें / आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामना /

    ReplyDelete
  12. कल 11/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, उम्र भर इस सोच में थे हम ... !

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. यह रचना बहुत सटीक और भावपूर्ण है |
    बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  14. sndar post hae, man ki gahrai tak phunch gai.

    ReplyDelete
  15. क्या बेहतरीन गज़ल है....
    सादर बधाई......

    ReplyDelete
  16. गुज़िश्ता साल के ख्वाजासरा सालार भी बदलो.........
    ज़ानदार और शानदार...........अख़बार में छप जाए तो ख़ून खौला देने वाली ग़ज़ल

    ReplyDelete
  17. तो जब हर मोड़ पर , हर जा करपशन ही करपशन है
    तो फिर बेकार हैं नारे , अजी बेकार अनशन है
    फ़क़त बिल पास होने से बुराई रुक नहीं सकती
    मगर अल्हमदुल्लिल्लाह , याँ " हया" होना भी इक फ़न है

    कमाल की प्रस्तुति है आपकी.
    आपने बिलकुल सही फ़रमाया है,हया जी.
    सदा जी की हलचल से पहली दफा आपके ब्लॉग पर आना हुआ.
    आपको पढकर बहुत प्रसन्नता मिली जी.

    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    मकर सक्रांति और लोहड़ी की बधाई और शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  18. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सटीक और भावपूर्ण रचना। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  20. कैलेंडर ही बदलते हो ,कभी किरदार भी बदलो
    गुज़िश्ता साल के ख्वाजासरा सालार भी बदलो
    जो मेहेंगाई नहीं रोके , हिफाज़त भी ना कर पाए
    किसी दल की भी हो ,ऐसी लचर सरकार को बदलो ..
    अब यह शब्द तो सचमुच तारीफ के काबिल है...बधाई..

    ReplyDelete
  21. बहुत बेहतरीन,सादर बधाई......

    ReplyDelete
  22. वाह...वाह...वाह...
    सुन्दर प्रस्तुति.....बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  23. AAPKE BLOG PAR PEHLI DAFA TASHRIF LAYA. BLOG PASAND AAYA AUR AAPKI NAZM TOH MASHA ALLAH BAS HAQ HI HAQ. KHASKAR MUJHE YE BAND BAHUT HI DILAFZA LAGA....
    इधर उर्दू की महफ़िल पर तो ये बंदिश लगाते हैं
    उधर मुन्नी को सारी रात होटल में नचाते हैं
    अदब को भी मुसलमाँ जान महफ़िल में पुलिस आये
    उधर खुद बेहयाई से ये पीते और पिलाते हैं..
    KHUDA HAFIZ..

    ReplyDelete
  24. निःशब्द कर दिया आपने .
    कृपया मेरी नवीनतम पोस्ट पर पधारें , अपनी प्रतिक्रिया दें , आभारी होऊंगा .

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...
    बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete

  26. कैलेंडर ही बदलते हो ,कभी किरदार भी बदलो
    गुज़िश्ता साल के ख्वाजासरा सालार भी बदलो
    जो मेहेंगाई नहीं रोके , हिफाज़त भी ना कर पाए
    किसी दल की भी हो ,ऐसी लचर सरकार को बदलो
    बहुत खूब,....... वाह

    ReplyDelete
  27. वाह वाह लता वाह ,बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  28. मेरी उर्दू जलेबी बाई तो हो ही नहीं सकती
    ओ' शीला की जवानी में कभी खो ही नहीं सकती
    लगाती हूँ मै तुमसे शर्त के तुम लाख सर पीटो
    क़यामत तक रहेगी, ये फ़ना हो ही नहीं सकती

    उम्दा, रचना व खयालात के लिए बाधाई

    ReplyDelete
  29. बहुत समय बीत चुका....आपने कोई नई पोस्ट नहीं डाली......

    ReplyDelete
  30. नववर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    ReplyDelete
  31. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    ReplyDelete
  32. वाह! आनंद आ गया....आपके जैसे लिखने वाले कम ही मिलते हैं। माँ सरस्वती आप पर और कृपा करें। आसान उर्दू लफ्ज़ रहने से आपके कलाम जन-जन तक पहुँच सकते है। गुलज़ार चचा जैसे हर वर्ग के लोगों तक अपनी जगह बना ली थी। प्रणाम।

    ReplyDelete
  33. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    ReplyDelete
  34. लता जी आपकी समस्त अभिव्यक्ति का वर्णन इस प्रकार करते हैं कि अभिव्यक्तियों को पढ़ते-पढ़ते मस्तिष्क में एक द्रश्य-सा बन जाता है......आप इन अभिव्यक्तियों में उर्दू शब्दों का उपयोग बहुत ही सुन्दरता से करती हैं.....ऐसी अभिव्यक्तियों का इंतज़ार शब्दनगरी के पाठकों को हमेशा रहता है...आपसे निवेदन है कि आप शब्दनगरी पर भी अपनी रचनाये,अभिव्यक्तियां और कवितायेँ लिखे...

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)