Sunday, January 2, 2011

हो जाये साले-नौ में मुहब्बत पे गुफ़्तगू?

Bold
मेरा हाल तो मत पूछिए ; ज़ख़्मी हूँ , नए साल का आग़ाज़ हादसे के साथ हुआ लेकिन अभी उसका ज़िक्र करके आप सबको दुखी नहीं करना चाहती क्यूंकि अपनों की तकलीफ़ जानके अपनों को दुःख होता है इसलिए वो रुदाद अगली पोस्ट में, बस इतना जान लीजिए कि कभी - कभी वक़्त और हादसे भी ज़िन्दगी के साथ सियासी खेल खेल जाते है और मेरे साथ ये खेल बचपन से खेला जा रहा है पर छोडिये , आज बस इतना ही कहूँगी ;

छोडो, बहुत हुई है, सियासत पे गुफ़्तगू
होजाए साले-नौ में मुहब्बत पे गुफ़्तगू

बर्बाद करके जाएगा ये वक़्त देखिये
करते रहे जो हम यूँही नफ़रत पे गुफ़्तगू

जब भी करो हो बात तो "सूरत" पे करो हो
बेहतर यही है आज हो "सीरत" पे गुफ़्तगू

मुंह पे कहे है 'वाह' पीछे कहे है 'हुंह'
और मै करूं जो तेरी जहालत पे गुफ़्तगू?

आदर्श लोग बैठ शहीदों की क़ब्र पे
चुपचाप कर रहे हैं जी राहत पे गुफ़्तगू

उर्दू ज़ुबान और ये क़ुदरत के फ़रिश्ते
छुप छुप के करें शब में मेरी छत पे गुफ़्तगू

गर ख़ैर चाहते हैं तो घर लौट जाइए
नेता जी कर रहे हैं हिफ़ाज़त पे गुफ़्तगू

गर ये अमीर--शहर है, अफ़्सोस है हमें !
ग़ुरबत से कर रहे हैं जो इस्मत पे गुफ़्तगू

मंज़िल की जब तलाश में घर से निकल पड़े
हम फिर नहीं करते हैं मुसाफ़त पे गुफ़्तगू

इस शहर में तो ख़ुद से भी जब जब हो मुलाक़ात
होती है सिर्फ़ दौलत--शोहरत पे गुफ़्तगू

उस आदमी का ज़हन तो मफ्लूज है "हया"
करता है बेहयाई से औरत पे गुफ़्तगू

- - -

ग़ुरबत :- ग़रीबी
मुसाफ़त:- सफ़र
मफ्लूज:- लक़वा मारा हुआ




नया साल साल बहुत बहुत मुबारक हो

51 comments:

  1. क्या कहूँ, जितनी बार पढ़ता हूँ आपको निशब्द हो जाता हूँ, अपने व्यक्तव्य में बांध नहीं पाता आपको । आपकी गजल हमेशा प्रेरणादायी होती हैं । आपको नव वर्ष की बहुत-बहुत बधाई , इस लाजवाब रचना के लिए ढ़ेरों बधाईयाँ ।

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. आपको नववर्ष की हार्दिक शुभ कामना /आपका ब्लॉग मेंरे लिए नववर्ष के उपहार की तरह है, क्यों की इसी ब्लॉग के माध्यम से मैंने आपको जाना / संस्कृत के माहौल में उर्दू का शौक वर्षों पहले दब गया / आपका परिचय मेरे लिए प्रेरणा है / अगर आपको स्वीकार हो तो आपके रूप में गुरु प्रदान करने के लिए भगवान का तहेदिल से शुक्रिया / मार्ग दर्शन मिलता रहे यही अनुरोध है /
    --- विजय शंकर द्विवेदी

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी गज़ल बधाई। मझे लगता है आपने जान बूझ कर कई बार 221 2121 1221 212 व 221 1221 1221 122 दो भिन्न बहरों को
    कई मिसरों में इम्तिजाज़ कर दिया है।

    ReplyDelete
  5. बस यूँ ही चलती रहे,
    गुफ्तगू पे गुफ्तगू।

    ReplyDelete
  6. जब भी करो हो बात तो "सूरत" पे करो हो
    बेहतर यही है आज हो "सीरत" पे गुफ़्तगू

    speechless ..daad or shubhkamnayen kubool karen

    ऐ काश अपने मुल्क में ऐसी फ़ज़ा बने
    मंदिर जले तो रंज मुसलमान को भी हो
    पामाल होने पाए न मस्जिद की आबरू
    ये फ़िक्र मंदिरों के निगेहबान को भी हो

    kash aisa bhi naya varsh ho ...

    ReplyDelete
  7. बर्बाद करके जाएगा ये वक़्त देखिये
    करते रहे जो हम यूँही नफ़रत पे गुफ़्तगू
    wah.bar-bar padh rahi hoon ,man hi nahin bharta.

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ग़ज़ल! क्या बात है...वाह !

    नए साल की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  9. गर ख़ैर चाहते हैं तो घर लौट जाइए
    नेता जी कर रहे हैं हिफ़ाज़त पे गुफ़्तगू



    ...जबरदस्त

    ReplyDelete
  10. लता जी, अल्लाह से दुआ है कि आप हादसे के असर से बाहर आएं.
    छोडो, बहुत हुई है, सियासत पे गुफ़्तगू
    हो जाए साले-नौ में मुहब्बत पे गुफ़्तगू
    नए साल की बेहतरीन दुआ.
    बर्बाद करके जाएगा ये वक़्त देखिये
    करते रहे जो हम यूँही नफ़रत पे गुफ़्तगू
    सच कहा है...नफ़रत से कुछ हासिल नहीं होता.

    ReplyDelete
  11. bahut badhiyaa ghazal hai,
    Nayaa saal aapko bahut bahut mubaarak ho!

    ReplyDelete
  12. लता जी, नए साल पर मुबारकबाद कबूल फ़रमाएं.

    ReplyDelete
  13. बर्बाद करके जाएगा ये वक़्त देखिये
    करते रहे जो हम यूँही नफ़रत पे गुफ़्तगू

    जब भी करो हो बात तो "सूरत" पे करो हो
    बेहतर यही है आज हो "सीरत" पे गुफ़्तगू
    Nihayat khoobsoorat alfaaz!
    Naya saal aapko bhi bahut,bahut mubarak ho!

    ReplyDelete
  14. " gazab ...

    आदर्श लोग बैठ शहीदों की क़ब्र पे
    चुपचाप कर रहे हैं जी राहत पे गुफ़्तगू

    behatarin

    nav varsh ki aapko aur aapke pariwar ko dhero shubhkamanaye

    -tulsibhai

    ReplyDelete
  15. आपको और आपके परिवार को मेरी और से नव वर्ष की बहुत शुभकामनाये ......

    ReplyDelete
  16. गर ख़ैर चाहते हैं तो घर लौट जाइए
    नेता जी कर रहे हैं हिफ़ाज़त पे गुफ़्तगू

    क्या बात कही आपने...सचमुच !!!!

    लिखती तो आप बेमिसाल हैं,लेकिन आज ध्यान इस बात पर तनिक अधिक अटका कि क्या दुर्घटना घटी आपके साथ...कृपया बताइये ????

    ReplyDelete
  17. बहुत खूब ग़ज़ल! क्या बात है...वाह !

    नए साल की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  18. रंजना जी ,शाहिद जी मेरे दायें हाथ के अंगूठे पर प्लास्टर चढ़ा है और चिन भी ज़ख़्मी है बस आप सबकी दुआओं ने बचा लिया ....अगली पोस्ट का विषय यही होगा..but don't worry
    गिरते हैं शहसवार ही मैदाने जंग में ...........thanx

    ReplyDelete
  19. उस आदमी का ज़हन तो मफ्लूज है "हया"
    करता है बेहयाई से औरत पे गुफ़्तगू ..

    इस गुफ्तगू में बहुत दम है ... लाजवाब ...
    आपको नया साल मुबारक हो ...

    ReplyDelete
  20. बेमिसाल लिखा है आपने हमेशा की तरह...लाजवाब..हर पंक्ति कुछ कहती और टोकती है...

    ReplyDelete
  21. आपको और आपके परिवार को मेरी और से नव वर्ष की बहुत शुभकामनाये ......

    ReplyDelete
  22. पहली बार आपको पढ़ा है !अच्छा लगा ..... आप प्रभाव छोड़ने में कामयाब हैं !
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  23. आदरणीय दीदी,
    आपका आत्मविश्वास हमेशा हिमालय की तरह उंचा रहे ताकि आप किसी भी विषम परिस्थितियों का सामना यूँ ही हँसते हुए कर सके.
    नए साल में नयी जगह शिफ्टिंग के वजह से आप तक पहुँचने में देर हुई. इसी दौरान आपका नववर्ष सन्देश भी मुझे मिला.
    आप जल्द ही स्वस्थ होंगी. फिलवक्त आप अपना ख्याल रखें.

    यह ग़ज़ल गुफ़्तगू.. तो एक हथयार की तरह है. बेहद असरदार!!

    ReplyDelete
  24. Potential gold mines found in Kerala!!!!

    ReplyDelete
  25. कोई एक्सीडेंट हो गया था क्या ???? कैसे घायल हो गयीं आप ??

    आप शीघ्र स्वास्थ्य लाभ करें,यही मंगलकामना है...

    ReplyDelete
  26. लेकिन ये हुआ कैसे ? बहर हाल अल्लाह से दुआ है कि आप जल्द अज़ जल्द सेहतयाब हों (आमीन)

    बर्बाद करके जाएगा ये वक़्त देखिये
    करते रहे जो हम यूँही नफ़रत पे गुफ़्तगू

    गर ख़ैर चाहते हैं तो घर लौट जाइए
    नेता जी कर रहे हैं हिफ़ाज़त पे गुफ़्तगू

    ये दोनों अश’आर ग़ज़ल की जान लगे

    ReplyDelete
  27. नए साल का आगाज़ आपने इतनी बेहतर गुफ्तगू से किया है के बरबस मुंह से वाह वाह निकल रही है...जबरदस्त ग़ज़ल...हर शेर कमाल का है...आपकी सोच और लेखनी को बारम्बार सलाम...दुआ करता हूँ के इस साल भी पिछले सालों की तरह आप एक से बढ़ कर एक खूबसूरत अशआर हम तक यूँ ही पहुंचाती रहें...आमीन...

    नीरज

    ReplyDelete
  28. उस आदमी का ज़हन तो मफ्लूज है "हया"
    करता है बेहयाई से औरत पे गुफ़्तगू
    बहोत ख़ूब...हया जी

    आपकी गजल में एक शे'र लिखने कि ग़ुस्ताखी कि है।मुआफ़ करेंगी ना!!!क्या करुं रहा नहिं गया...
    ये बात उसको कैसे भला कर पाएगी असर
    जो हमेशाँ ही किया करता है किस्मत पे गुफ़तग़ु

    ReplyDelete
  29. गर ख़ैर चाहते हैं तो घर लौट जाइए
    नेता जी कर रहे हैं हिफ़ाज़त पे गुफ़्तगू
    नए साल की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  30. hayaji baht baht mubarak kya sundar ghazal kahi hai aapne wish you a happy new year

    ReplyDelete
  31. नफरत पर प्यार का सन्देश बहुत प्रभावी है ...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  32. वाह रे गुफ्तगू मजा आ गया आपको पढकर।
    इस गुफ्तगू में बहुत दम है ... लाजवाब ...

    जी आपको मकर संक्रांति की हार्दिक बधाई।
    जी धन्यवाद।

    ReplyDelete
  33. वाह! क्या बात है! बेहतरीन! शब्दों का बहुत सुन्दर प्रयोग !

    ReplyDelete
  34. ltaa bhn etv pr aapko sun kr aksr aap se mukhatib hone kaa khvab dekhaa krtaa thaa chotaa saa aadmi hun kbhi ptrkaarita ki he ab vkaalt ke saath sath ptrkarita men hun lekin aapke alfaz aapke ashaar aapkaa flsfaa maashaa allaah ise din duni raat choguni trqqi de tb hi khin desh men apnaa pn amn sukun qaaym ho skegaa maaasum bhai ki bdolt men aap tk phunch paaya isliyen unka abhi men bhut bhut shukriya adaa krungaa ab to apko pdhta rhungaa sutaa to zrur hun . akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  35. हया जी, हादसे की बात ने दिल को कंपा दिया कि क्या हुआ आपके साथ। टिप्पणियों से गुजरा तो आपकी टिप्पणी से पता चला कि हादसा कुछ गंभीर ही रहा होगा कि आपके अंगूठे पर प्लास्टर चढ़ा है और चिन भी ज़ख्मी है। आप जल्द से जल्द स्वस्थ हों यही ईश्वर के प्रार्थना है। आपकी अन्य ग़ज़लों की भांति यह ग़जल भी खूब लगी। आपकी पोस्ट पर देरी से पहुँचने की माफ़ी चाहता हूँ।
    सुभाष नीरव

    ReplyDelete
  36. aapki rachna main intelligent ho gai hun vatvriksh ke liye chahiye rasprabha@gmail.com per parichay tasweer blog link ke saath

    ReplyDelete
  37. lata ji apki yeha sunder gajal aur apke bare me ajke hindi milap me chhpa hai.apki puri gajal yehan par padhkar bahut achha laga.....

    ReplyDelete
  38. bahut bahut shubhkamnaye.......

    ReplyDelete
  39. behad sunder....thanks for posting..

    ReplyDelete
  40. sorry for late " HAPPY NEW YEAR"
    http://amrendra-shukla.blogspot.com/

    ReplyDelete
  41. जितनी तारीफ़ की जाय कम है ।
    सिलसिला जारी रखें ।
    आपको पुनः बधाई ।

    ReplyDelete
  42. "जब भी करो हो बात तो "सूरत" पे करो हो
    बेहतर यही है आज हो "सीरत" पे गुफ़्तगू"

    सादर

    ReplyDelete
  43. bahut dino k baad idhar aanaa hua. achchha lagaa. srijan ka vahi tevar.....magar haya k sath....

    ReplyDelete
  44. आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2011/03/blog-post_12.html

    ReplyDelete
  45. बहुत ही खूबसूरत गजल... हर शेर अपने आप में एक मुक्कमल दास्तां बयां कर रहा है.

    ReplyDelete
  46. अति उत्तम ,अति सुन्दर और ज्ञान वर्धक है आपका ब्लाग
    बस कमी यही रह गई की आप का ब्लॉग पे मैं पहले क्यों नहीं आया अपने बहुत सार्धक पोस्ट की है इस के लिए अप्प धन्यवाद् के अधिकारी है
    और ह़ा आपसे अनुरोध है की कभी हमारे जेसे ब्लागेर को भी अपने मतों और अपने विचारो से अवगत करवाए और आप मेरे ब्लाग के लिए अपना कीमती वक़त निकले
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

    ReplyDelete
  47. आप की बहुत अच्छी प्रस्तुति. के लिए आपका बहुत बहुत आभार आपको ......... अनेकानेक शुभकामनायें.
    मेरे ब्लॉग पर आने एवं अपना बहुमूल्य कमेन्ट देने के लिए धन्यवाद , ऐसे ही आशीर्वाद देते रहें
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2011/04/blog-post_26.html

    ReplyDelete
  48. आपकी रचना समालोचना के लिए रखी गई है |
    http://charchamanch.blogspot.com/

    आज आप चर्चा मंच पर हैं ||

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)