Sunday, December 12, 2010

मैं intelligent होगई हूँ




ख़ुदा गवाह ही कि जो कह रही हूँ सच कह रही हूँ :-
"देखा, मैं तेरी ख़ुशबू से intelligent होगई हूँ " ये सुनते ही मैं चौंक पड़ी , यक़ीन करना मुश्किल हो रहा था कि ये जुमला मेरी उस बुज़ुर्ग माँ की ज़बान से निकला था जो दस दिन पहले जब मेरे सुपुर्द की गयी थी(भाई ऑस्ट्रेलिया गया था),ना ठीक से चल पाती थी , ना समझ पाती थी ,जिनकी आँखों की रौशनी और याददाश्त उम्र कि वजह से कमज़ोर हो चली है और जिसने आते ही ये सवाल किया था कि तू पिंकी ही है ना?(my nickname) ,उसकी ज़बान से ये जुमला !
तक़रीबन दोपहर ४ बजे का वक़्त था , etv urdu पर mushaira आ रहा था , मुझे १४ नवम्बर को नेहरु रत्न अवार्ड मिलने वाला था , मैं वहां जाने के लिए तैयार हो रही थी , मम्मी को उस दिन सुब्ह तैयार नहीं कर पायी थी ,इन दिनों वो सारे फ़र्ज़ मुझे अदा करने पड़ रहे है जो बचपन में माँ हमारे लिए किया करती थी तो मैंने मम्मी से कहा कि चलो आपको ग़ुस्ल करवा दूं , फिर मुझे जाना है ; उधर mushaire में शेर पढ़ा जा रहा था "मोहब्बत नहीं है आसान मामू " माँ बड़े गौर से सुन रही थी , इधर मेरी गुहार , उधर अशआर , तो बस यूं लगा जैसे मेरी माँ में किसी शायर की रूह घुस आई हो , अचानक शुरू हो गयीं , "मुश्किल है अब इन्कार सरला( उनका नाम),होगई है तू ...... रुक गयीं, बोलीं "बता ना आगे क्या होगा? ",मैंने कहा " हो गयी है तू लाचार सरला " , तो ख़ुश हो गयीं "हाँ " फिर दूसरा मिसरा लगाना शुरू किया , "बेटी का है फरमान सरला" और यक़ीन जानिये कि क्या-क्या बोलती गयीं - मैं हैरान और परेशान और जब उन्होंने ये कहा " अब तो पड़ेगा ही नहाना , आगे नहीं आता है बनाना " तो मेरी ज़बान से निकला कि , वाह ! अरे मम्मी आप तो शायरी कर रहीं हैं और फिर .............. उनकी ज़बान से ये जुमला निकला " देखा? तेरी खुशबू से मैं intelligent होगयी हूँ"और ये कह कर उन्होंने मेरा गाल चूम लिया .

उनकी ज़बान से निकली हुई ये बात मुझे छू गयी । विरासत में हमें उनसे बहुत कुछ मिला है । राजस्थान के cheif minister की steno रह चुकी हैं लेकिन बुढ़ापा इंसान को जिस मरहले पे ले आता है , वहाँ हमें ये सोचना चाहिए कि हमारे parents सिर्फ़ बुज़ुर्ग हुए हैं ,मरीज़ नहीं जबकि हम उनके बुढ़ापे को एक लाइलाज रोग समझकर घर के एक कोने में 'रख' देते हैं ; ख़ुशनुमा माहौल के बगैर तने तन्हा पड़े पड़े ये माँ बाप वक़्त से पहले ही चल देते हैं ।
जिस तरह मशीनों को तेल की, गाड़ियों को पैट्रोल की , पेड़-पौधों को खाद की ज़रूरत होती है , उसी तरह बुज़ुर्गों को रौनक़ की, साथ की , देखभाल और प्यार की ज़रूरत होती है ।

मेरी माँ की ये तस्वीर चीख़-चीख़ कर कह रही है कि children day सिर्फ़ parents द्वारा बच्चों को प्यार बाँटने का दिन नहीं बल्कि बच्चों द्वारा भी parents की केयर करने का दिन होना चाहिए
हम कितने भी बड़े हो जायें उनके लिए बच्चे ही रहेंगे और जब वो बच्चे की तरह हो जायें तब हमें भी उनके साथ बच्चों जैसा प्यार बाँटना चाहिए .............बाल दिवस पर ये matra - ratna award एक बेटी के लिए नेहरु ratna award से किसी भी तरह कम ना था .

यही सोचते - सोचते जब मैं function में पहुंची और जब मेरे हाथ में mike थमाया गया तो यक- ब -यक मैं ये घटना सुना बैठी , सब गौर से सुन रहे थे , महसूस कर रहे थे .........

उस दिन मुझे इस बात का और यक़ीन हो गया कि सिर्फ़ संगीत की ताक़त ही किसी रोग का इलाज नहीं करती बल्कि शब्द की शक्ति ,अल्फाज़ की ताक़त , अदब का असर और शायरी की ख़ुशबू भी दवाई सा काम करती है .......... वो ख़ुशबू मेरी नहीं,उर्दू की थी , ज़बान की थी,शायरी की थी जिसने मेरी माँ को चंद लम्हों के लिए "intelligent" बना दिया था ।
आज उनको ये घटना याद भी नहीं है ,वो भूल चुकी हैं कि मैंने ऐसा भी कुछ कहा था लेकिन मैंने सोच लिया है कि मैं अब उनके आस पास शायरी को ज़िंदा रखूंगी और सिर्फ़ 'पिंकी' बन कर नहीं , उर्दू और शायरी बनकर रहूंगी ;


मेरी तो ज़ात-पात, धर्म, दीन शायरी
ये घर ,मकां ,जहां ,फ़लक ,ज़मीन शायरी

देखा जो तुमने प्यार से तो यूं लगा मूझे
जैसे कि हो गयी हूँ मैं हसीन शायरी

ख्वाहिश की तितलियाँ बड़ी कमसिन है, शोख़ हें
इनके तुफ़ैल होगयी रंगीन शायरी

सरज़द हुई हैं ऐसी भी दिल पर हक़ीक़तें
रिश्तों
का लिख गयी नया आईन शायरी

ग़ैरत की लाश हाथ में लेकर ग़ज़ल कहूं
तेरी
कर सकूंगी यूं तौहीन शायरी

लैला -- शायरी हूँ मेरा क़ैस है सुख़न
ये
जुर्म है तो दे सज़ा , ना छीन शायरी

इक लम्स है ये शायरी मेरे लिए ' हया '
उनकी
नज़र में लाम , मीम , सीन, शायरी

- x - x - x -



ग़ुस्ल करना = नहाना
तने तन्हा =बिल्कुल अकेला
तुफैल = वजह
आईन= संविधान
सरज़द = घटित
क़ैस = मजनू का नाम
लाम मीम सीन = means l ,m, s( in urdu)

41 comments:

  1. dil se nikli baat ko dilon tak pahuchata bhavpurn aalekh .bahut kuchh sochne ko majboor karta aalekh .aabhar.

    ReplyDelete
  2. ग़ैरत की लाश हाथ में लेकर ग़ज़ल कहूं
    तेरी न कर सकूंगी यूं तौहीन शायरी

    सुन्दर रचना! के लिए साधुवाद स्वीकार करें

    ReplyDelete
  3. ग़ैरत की लाश हाथ में लेकर ग़ज़ल कहूं
    तेरी न कर सकूंगी यूं तौहीन शायरी
    खुबसूरत गज़ल हर शेर दाद के क़ाबिल, मुबारक हो
    पहली बार आपके व्लाग पर आयाऔर बहुत खुबसूरत शायरी पढने की मिली , बधाई!

    ReplyDelete
  4. सच है बुजुर्गो को भी प्‍यार से सींचा जाए तो उनमें फूल ही खिलते हैं। पता नहीं हम क्‍यों उनसे दूरियां बना लेते हैं? बहुत अच्‍छा संस्‍मरण।

    ReplyDelete
  5. मन को छूता हुआ संस्मरण और शायरी तो गज़ब की ..लाजवाब पोस्ट

    ReplyDelete
  6. ''वो ख़ुशबू मेरी नहीं,उर्दू की थी , ज़बान की थी,शायरी की थी जिसने मेरी माँ को चंद लम्हों के लिए "intelligent" बना दिया था।''
    वाह वाह...
    क्या कहने वाह...
    आपका यह जुमला, कई ग़ज़लों पर भारी पड़ गया लता जी.
    नेहरू रत्न पुरस्कार के लिए बहुत बहुत मुबारकबाद.
    मेरी तो ज़ात-पात, धर्म, दीन शायरी
    ये घर,मकां ,जहां ,फ़लक, ज़मीन शायरी
    मतले से लेकर-
    इक लम्स है ये शायरी मेरे लिए ' हया '
    उनकी नज़र में लाम , मीम , सीन, शायरी
    मक़ते तक हर शेर में अदब से मुहब्बत की खुशबू महक रही है.

    ReplyDelete
  7. मैंने भी इ टीवी पर आपका मुशायरा कई बार सुना. अच्छा लगा माता जी का यूँ यकबयक शायरी करना. अपने बुजुर्गों में एक बच्चा ढूँढना ही सही है. कभी उन्होंने हमें खिलाया, चलना सिखाया, आज हमें अपना हाथ आगे बढ़कर उनकी उंगली थामनी है

    ReplyDelete
  8. आप की माँ का लगाया पौधा है आप ..कितनी मेहनत से सीचा होगा ... तो आज आपकी खुशबू जो सारे जहाँ को महका रही है उसपर उनका भी पूरा हक है ..

    ReplyDelete
  9. माँ के बहाने आपने बुजुर्गों की जो बात उठाई है, उससे कौन इन्कार कर सकता है। "हमारे parents सिर्फ़ बुज़ुर्ग हुए हैं ,मरीज़ नहीं जबकि हम उनके बुढ़ापे को एक लाइलाज रोग समझकर घर के एक कोने में 'रख' देते हैं ; ख़ुशनुमा माहौल के बगैर तने तन्हा पड़े पड़े ये माँ बाप वक़्त से पहले ही चल देते हैं ।
    जिस तरह मशीनों को तेल की, गाड़ियों को पैट्रोल की , पेड़-पौधों को खाद की ज़रूरत होती है , उसी तरह बुज़ुर्गों को रौनक़ की, साथ की , देखभाल और प्यार की ज़रूरत होती है ।"

    दिल को छू गया आपका यह संस्मरण और शायरी तो दिलोदिमाग पर जैसे छा जाती है!

    ReplyDelete
  10. Meree aankhen nam ho aayeen....apnee maa ke bareme padhna behad achha laga.Shayaree ke to khair kya kahne!

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी सीख देता आपका संस्मरण और गज़ल अच्छे लगे.

    ReplyDelete
  12. क्या कहूँ? लफ्ज़ नहीं सूझ रहे...मुझे फक्र है के मैं तुम जैसी बहन का भाई हूँ...

    नीरज

    ReplyDelete
  13. wah.koi shabd hi nahi hai kahne ke liye is bemisaal post per.

    ReplyDelete
  14. भावुक कर दिया आपकी इस सुन्दर पोस्ट ने...

    बहुत बहुत बहुत ही सही कहा आपने..

    ReplyDelete
  15. अरे हाँ,

    बहुत बहुत बधाई !!!!

    ReplyDelete
  16. kya kahu...

    ek-ek shabd hi jaise chun-chun kar likha hai...

    ReplyDelete
  17. मैं आप सभी की आभारी हूँ कि मेरी नयी पोस्ट पर आप तुरंत प्रतिक्रियाएं दे कर अपने स्नेह का इज़हार कर देते हैं ,मुझे अपनी दुआओं से नवाज़ देते हैं और आपके ब्लॉग पर मेरी अनुपस्तिथि को नज़रंदाज़ कर देते हैं . इस बात का भी ख़ुदा गवाह है कि मैं आप सबको पढ़ना चाहती हूँ मगर बमुश्किल इन दिनों नेट पर हाजिरी दे पा रही हूँ..बस कई कारण हैं पर ये मेरी बदकिस्मती है जो आपसे मुलाक़ात नहीं हो पा रही . अब देखिये ना ये पोस्ट भी एक महीने बाद आप तक पहुंचाई है ,आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं मेरी मजबूरियों [ मसरूफियत ] का ..मगर कम मिलने का मतलब ये मत समझिएगा कि मुझे आपसे मुहब्बत नहीं .काश दिन में २४ की जगह ३६ घंटे होते ,अपनों से इत्मिनान से मुलाक़ात तो होती ............! आह ! जल्द कोशिश करुँगी .

    ReplyDelete
  18. title dekh kar chaunk gaya tha.. kyonki di to born intelligent hain. der se aane ke liye muafi chahta hoon. Award ke liye aur fir se badhiya sukhan ke liye badhaai. Mammy ji ka meri or se charan vandan.

    ReplyDelete
  19. काश ! यह सलीका सबको आ जाये।

    हमारे parents सिर्फ़ बुज़ुर्ग हुए हैं ,मरीज़ नहीं
    बहुत खूब।
    कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स के अवसर पर चूहे से चैट

    ReplyDelete
  20. very nice post..

    mere blog par bhi kabhi aaiye
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  21. दिल को छू गया *****

    ReplyDelete
  22. Ham yahan kai baar aaye aur fir chale gaye....Ham kaise react karen nahi jaante....but really I love the way that really you are. So nice of you.

    This is only for attendance :-)
    regards

    ReplyDelete
  23. "ख्वाहिश की तितलियाँ बड़ी कमसिन है, शोख़ हें
    इनके तुफ़ैल होगयी रंगीन शायरी

    सरज़द हुई हैं ऐसी भी दिल पर हक़ीक़तें
    रिश्तों का लिख गयी नया आईन शायरी "
    Aapki in panktiyon ne mujhe bahut kuchh sochne par majbur kkar diya hai.aur main aaj khud ko dhanyavaad deta hun ki main aapko follow kar pa raha hun...

    ReplyDelete
  24. aapki ye post itni achi hai ki mujhe dobara aana pada... :)


    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  25. संस्मरण बस सीधे दिल में उतरता गया है ...
    अपनी माँ के प्रति आपका प्रेम और उनकी देखभाल करते छलकती आपकी ममता अद्भुत है ...जो ममता , स्नेह , प्यार उनसे आपको मिला , आप वापस लौटा रही हैं ...
    आपकी पोस्ट बहुत अच्छी लगी ...!

    ReplyDelete
  26. नए साल पर हार्दिक शुभकामना .. आपकी पोस्ट बेहद पसंद आई ..आज (31-12-2010) चर्चामंच पर आपकी यह पोस्ट है .. http://charchamanch.uchacharan.blogspot.com.. पुनः नववर्ष पर मेरा हार्दिक अभिनन्दन और मंगलकामनाएं |

    ReplyDelete
  27. जितना प्रभावशाली दिल छू लेने वाला संस्मरण उतनी ही कमाल की शायरी ...आपकी शायरी में ये खूबसूरती आपके खुबसूरत विचारों से ही तो आई है बहुत सच्चा और सार्थक सन्देश दिया है इस पोस्ट में आपने .
    हर पल यही है दिल की दुआ आपके लिए
    खुशियों भरा हो साल नया आपके लिए
    महकी हुई उमंग भरी हो हर इक सुबह
    चाहत के गुल से पथ हो सजा आपके लिए

    ReplyDelete
  28. नव वर्ष मंगलमय हो
    मेरी भी एक रचना आज चर्चा मंच par है
    मेरे भी ब्लॉग par आये
    http://babanpandey.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. बहुत ख़ूबसूरत और बहुत ही true....

    ReplyDelete
  30. आपको नववर्ष की हार्दिक शुभ कामना /आपका ब्लॉग मेंरे लिए नववर्ष के उपहार की तरह है, क्यों की इसी ब्लॉग के माध्यम से मैंने आपको जाना / संस्कृत के माहौल में उर्दू का शौक वर्षों पहले दब गया / आपका परिचय मेरे लिए प्रेरणा है / अगर आपको स्वीकार हो तो आपके रूप में गुरु प्रदान करने के लिए भगवान का तहेदिल से शुक्रिया / मार्ग दर्शन मिलता रहे यही अनुरोध है / --- विजय शंकर द्विवेदी

    ReplyDelete
  31. khushboo khushboo main bhi ho gai

    aapki yah rachna vatvriksh ke liye chahiye rasprabha@gmail.com per parichay tasweer blog link ke saath

    ReplyDelete
  32. ग़ैरत की लाश हाथ में लेकर ग़ज़ल कहूं
    तेरी न कर सकूंगी यूं तौहीन शायरी

    लैला -ए- शायरी हूँ मेरा क़ैस है सुख़न
    ये जुर्म है तो दे सज़ा , ना छीन शायरी

    maa aur beti ka pyaar yun hi bana rahe! aapko award ke liye shubhkamanayen! bahot khoobsurat likhti hain aap.

    ReplyDelete
  33. Bahut pyari nazma ke sath maa ka pyar bhi achcha lga.
    sach me maa dunia ki sabase anmol dharohar hai.

    ReplyDelete
  34. ब्लॉग की दुस्निया में आपका हार्दिक स्वागत |
    बहुत ही सुन्दर लिखा है अपने |
    अप्प मेरे ब्लॉग पे भी आना के कष्ट करे
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

    ReplyDelete
  35. मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    ReplyDelete
  36. लता हया जी बहुत सुन्दर गजल -काश आप हमेशा समय दे पाती आप ने जो लिखा बमुश्किल ही हाजिरी दे पा रही हूँ कोई बात नहीं धीरे धीरे ही हम भी उर्दू लब्ज सीखेंगे आप से तो और मजा आएगा

    ग़ैरत की लाश हाथ में लेकर ग़ज़ल कहूं
    तेरी न कर सकूंगी यूं तौहीन शायरी
    शुक्ल भ्रमर ५

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)