Thursday, April 1, 2010

और सब कुछ ठीक है ?


आज एक अप्रैल है ---अप्रैल फूल यानि बेवकूफ़ बनाने का दिन ...लेकिन हम तो सालों से हर दिन किसी ना किसी मुद्दे पर बुद्धू बनते रहे हैं ;जब हालात कुछ और होते हैं और हकीक़त कुछ और ,,,,,और फिर भी कहा यही जाता है कि सब कुछ ठीक है .........क्या वाक़ई ....
और सब कुछ ठीक है ?

मुल्क में दंगा हुआ है, और सब कुछ ठीक है
आदमी नेता हुआ है, और सब कुछ ठीक है ?

ये गनीमत है हवा खाते हो अब भी मुफ़्त में
प्याज़ बस महंगा हुआ है, और सब कुछ ठीक है ?

घर ग़रीबों के गिरें क्या फ़र्क़ बिल्डर को पड़े
आदमी से धन बड़ा है, और सब कुछ ठीक है ?

रोज़ इज्ज़त लुट रही है लड़कियों की रेल में
रोज़ इंसां कट रहा है, और सब कुछ ठीक है ?

मेरे चेहरे पर उदासी ?बात करते हैं जनाब ?
आंख से पानी बहा है, और सब कुछ ठीक है ?

बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?

बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है ?

43 comments:

  1. बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
    बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है ?
    Mere paas alfaaz nahi..kya kahun?

    ReplyDelete
  2. क्या कह सकता हूँ...

    सब कुछ ठीक है ?

    ReplyDelete
  3. "आदमी से धन बड़ा है, और सब कुछ ठीक है ?
    ...
    आंख से पानी बहा है, और सब कुछ ठीक है ?
    ....
    बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
    बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है?"
    आभार.

    ReplyDelete
  4. उफ़ क्या बात कही है आपने...एकदम अनमोल...

    सोच में पडी हूँ कि किस शेर को सराहूं ,किसे छोड़ दूँ...पूरी ग़ज़ल ही नायाब है...यथार्थ को इतने धारदार ढंग से आपने अभिव्यक्ति दी है कि बस वाह hi वाह है...

    ReplyDelete
  5. आम आदमी के विचारों को आपने शब्द दे दिये.सच में... आज हर कोई हर किसी को हर समय बेवकूफ बना रहा है, बन रहा है

    ReplyDelete
  6. शानदार कहूं या बेहतरीन कहूं,समझ से परे है,
    कुछ अक्लमंदी की बात लगती!है बाकी सब ठीक है
    क्या खूब महसूस किया गया है,और फिर बयाँ किया गया है.....
    कुंवर जी

    ReplyDelete
  7. सच कहा है आपने ... कुछ भी ठीक नही है ...
    हक़ीकत है सब शेरो में ... यथार्थ से भरे ....

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  9. हया दी नमस्कार,
    आपकी ग़ज़ल पढ़ रहा था और हसी भी आरही थी ,ये अपनी और सभी की बवासी पर थी शायद ... क्या क्या नहीं हो रहा है , सभी को पता है सब जानते हैं , बेहद खुल के लिखा है आपने ... कमाल हो गया बहुत कम ही ऐसे तेवर पढने को मिलते हैं...

    बाकि सब कुछ ठीक है...

    अर्श

    ReplyDelete
  10. आपके तेवर !!!! माशाल्लाह !!!!

    ReplyDelete
  11. कुछ भी ठीक नहीं .. फिर भी सब ठीक है .. सुंदर प्रस्‍तुति !!

    ReplyDelete
  12. लता हया साहिबा, आदाब
    संवेदना विहीन होते जा रहे समाज को केन्द्रित इस ग़ज़ल का हर शेर काबिले-तारीफ़ है
    मेरे चेहरे पर उदासी ?बात करते हैं जनाब ?
    आंख से पानी बहा है, और सब कुछ ठीक है ?
    .......बहुत खास हुआ है ये शेर...

    बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
    मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?
    और-
    बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
    बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है ?
    इतना सब कुछ है, कि दाद के लिये अल्फ़ाज़ ही नहीं हैं.
    बस एक शेर हुआ है-
    मेरी हालत कर रही है मेरा हाले-दिल बयां
    फिर भी कोई पूछता है ’और सब कुछ ठीक है’

    ReplyDelete
  13. " dil me uthate dard ko alfaz me lapetker sacchai ko samne rakha hai aapne ..bahut hi behtarin tarike se aapne samaj ke halat ko samne rakha hai ...jahan charo aur dard hai ...baaki sab thik hai "

    " badhai "

    ---- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
    बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है ?


    -आह! वाह!! बहुत उम्दा..हर शेर एक से बढ़कर एक..जबरदस्त!!

    ReplyDelete
  15. लता जी बहुत खूबसूरती से एक आदमी का दर्द उकेरा है. इन्सान में घर करती संवेदन हीनता की पराकाष्ट दिखाई पड़ी आपकी इस रचना में.लाज़वाब

    ReplyDelete
  16. मुखौटों में छिपे हुए कुछ चेहरों को
    बेनक़ाब करता हुआ हर शेर
    अपनी मिसाल आप बन पडा है
    आज के हालात को बखूबी बयान किया है
    आपके पाक जज़्बे और
    नेक-सोच को सलाम

    ReplyDelete
  17. लता जी किसी एक शेर की तारीफ़ करना बाकि शेरों के साथ बहुत बड़ी ना इंसाफी होगी क्यूँ की हर शेर एक अलग ही तल्ख़ लेकिन सच्ची दास्ताँ बयां कर रहा है...आज के दिनों दिन बिगड़ते हालात पर तबसरा कर रहा है...तंज में लिपटी आपकी ये ग़ज़ल दिलो दिमाग को झकझोर दे रही है...दाद कबूल करें...
    नीरज

    ReplyDelete
  18. घर ग़रीबों के गिरें क्या फ़र्क़ बिल्डर को पड़े
    आदमी से धन बड़ा है, और सब कुछ ठीक है ?


    रोज़ इज्ज़त लुट रही है लड़कियों की रेल में
    रोज़ इंसां कट रहा है, और सब कुछ ठीक है ?

    बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
    मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?


    बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
    बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है ?


    बेहद वजनदार गजल के ये अशआर दमदार हैं..यानी मेरी नज़र में

    हया जी बहुत उमदा लिख रही हें

    बधाई

    ReplyDelete
  19. Lataji,
    Aadab arz kartaa hoon.

    Ghazal ke baare men kyaa kahoon? Aapane to aam aadmi ka dil hi ashaar ke roop men ghazal naam ki tashtari men rakhkar pesh kar diyaa hai.Ghazal ke aashiqon par yon hi ahsaan karte rahiye.

    ReplyDelete
  20. मुल्क में दंगा हुआ है, और सब कुछ ठीक है
    आदमी नेता हुआ है, और सब कुछ ठीक है ?

    बढिया है........

    ReplyDelete
  21. ये गनीमत है हवा खाते हो अब भी मुफ़्त में
    प्याज़ बस महंगा हुआ है, और सब कुछ ठीक है ?

    बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
    मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?

    ye donon ashaar khas taur par pasand aaye.

    ReplyDelete
  22. aapki yah vyngatmak post dil meutar si gai.bahut hi badhiyan.

    ReplyDelete
  23. रोज़ इज्ज़त लुट रही है लड़कियों की रेल में
    रोज़ इंसां कट रहा है, और सब कुछ ठीक है ?

    मौत का तांडव है, चुप खड़े पाण्डव हैं
    कंकालो से नाली पट रहा है, और सब कुछ ठीक है.

    ReplyDelete
  24. बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
    मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?
    वाह जी वाह क्या मुकम्मल फ़रमाया मोहतरमा ..........रदीफ़-काफिया सब कुछ अद्भुत !.........और सब कुछ ठीक है !

    ReplyDelete
  25. बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
    मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?

    बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
    बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है ?

    kya bat kahi hai ..daad hazir hai kubool karen

    ReplyDelete
  26. एक सुंदर अंदाज बया करने का |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  27. आपकी गजलें इधर वाटिका मे भी पढी। एक प्रिय दोस्त ने भी आपकी गजलों की बहुत तारीफ की थी। इनमें विविधता खूब है और लफ्जों का चयन भी काबिले तारीफ है। मैं मूलत: कथाकार हूं लेकिन गजलों का लेखक कम पाठ्क अधिक हूं। आपकी शायरी मे कुछ तो अलग अन्दाज है। बधाई ।

    ReplyDelete
  28. बात हर गली चल रही अब इन्कलाब की
    बस लहू ठंडा हुआ है और सब कुछ ठीक है.

    ReplyDelete
  29. APKE SHABDO KE TEER SAEEDHE DIL PAR LAGTE HAI
    ANDAZ E BAYA KAFI ACHHA HAI

    ReplyDelete
  30. बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
    मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?


    बस अना,खुद्दारियां छोड़ीं ना छोड़ा अपना घर
    बेहयाई में 'हया' है, और सब कुछ ठीक है ?

    poori ki poori gazal bahut achhi lagi magar ye mere pasand ke sher hain .. mubarak ho...

    ReplyDelete
  31. Mai apki gagalo ka deewana ho gaya hu jab sai you tube per apko suna hai. akhilesh. yai bhi ek bahaterin rachna hai. badhai

    ReplyDelete
  32. Noshi Gilani - Ghazal - woh baat baat mein itna
    Lata Haya (Urdu Poetry)

    आपकी शायरी को आपकी जुबां से सुनकर बहुत अच्छा लगा ।हर शेयर लाजवाब ..........

    ReplyDelete
  33. Wah..bahut khoob di,
    aapki shayri ka koi jabab nahi...
    baki sab thik hai...wonderful.

    ReplyDelete
  34. जी बाकी सब ठीक है. सिर्फ देश की जनता भूखी है
    बाकी सब ठीक है....बच्चा सिर्फ मिट्टी खाता है, रोटी नहीं है
    बाकी सब ठीग है...औऱ जाने क्या क्या ठीक है...

    ReplyDelete
  35. बस ज़रा तौहीन ,थोड़ी तल्खियाँ ,तकलीफ 'बस'
    मेरे हाथों में लिखा है, और सब कुछ ठीक है ?

    subhaan allah, kya majbooriyan hain ......

    visit at Kalaam-e-chauhan.blogspot.com

    ReplyDelete
  36. आपने उम्दा कहा है, इसमें कोई शक़ कहाँ
    हमने आकर अब पढ़ा है, और सब कुछ ठीक है

    तंज़ो-तेवर, ज़िक्रो-लहजा, ख़ूब अंदाज़े-बयाँ
    और क्या है? बस हया है, और सब कुछ ठीक है

    आदाब!

    ReplyDelete
  37. दो हाथ दिए खुदा ने और उनमे लकीरें मगर ,
    तकदीर अपने पास रखी मगर सब ठीक है ....

    पहली बार आना सार्थक हो गया .....

    ReplyDelete
  38. bahut sunder likhtin hain aap.wah.

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)