Friday, January 1, 2010

इबादत भी ज़रूरी है

चलो अब वार बन जाएँ ,के अब तलवार बन जाएँ
के अब तेज़ाब की बहती हुई इक धार बन जाएँ
बहुत ठंडी हवा बनकर बहे ,अब आंधियां बनकर
बग़ावत का नया इक सिलसिला ,विस्तार बन जाएँ

गुज़िश्ता कई वर्षों के हालात को मद्दे -नज़र रखते हुए आप सबको नरम तेवर वाली दुआएं देने को दिल नहीं राज़ी हुआ, लगा के महज़ इतना कहना काफ़ी नहीं के आप सबको नव वर्ष की बधाई ,....आपका चहुंमुखी विकास हो, आप स्वस्थ और सुरक्षित रहें, आप सपरिवार पूरे साल खुशियों में संलग्न रहें, वगैरह वगैरह...नहीं- नहीं बस इतना नहीं बल्कि और भी बहुत कुछ अपने वादों ,अपने इरादों ,अपनी नीयत और योजनाओं में शामिल करना "ज़रूरी है" तो क़ुबूल कीजिये नए साल में इस अज्म और हौसले के साथ मेरी ये दुआएं / सलाहें :-



ये माना कि मुक़द्दर की इजाज़त भी ज़रूरी है
मगर मंज़िल को पाना है तो मेहनत भी ज़रूरी है

हवा जब तक हवा है तब तलक ही दोस्ती रखना
बने आंधी तो फिर उससे अदावत भी ज़रूरी है

अगर हो जान को ख़तरा औ ख़ुद्दारी ख़तर में हो
पलट कर वार कर देना हिफाज़त भी ज़रूरी है

ये माना कि तअल्लुकात में कोई ग़रज़ ना हो
मगर खुदगर्ज़ रिश्तों से सियासत भी ज़रूरी है

हो बेशक़ रूबरू दुश्मन मगर इतनी सनद रखना
हो लहजा तल्ख़ प थोड़ी नफ़ासत भी ज़रूरी है

फ़क़त दौलत, मकां, रिश्ते, ज़मीं,शोहरत, ख़ुशी, दुनिया
दिये जिसने सभी उसकी इबादत भी ज़रूरी है

मैं अपनी गुफ़्तगू उर्दू बिना कर ही नहीं सकती
'हया' के वास्ते इससे सख़ावत भी ज़रूरी है

अदावत - दुश्मनी
खतर - ख़तरा
प - पर
रूबरू - सामने
तल्ख़ - कड़वा
गुफ़्तगू - बातचीत
सनद - याद
सख़ावत - दोस्ती

आप तमाम ब्लागर्स का जिन्होंने २००९ में मुझे हसीन-तरीन कमेंट्स से नवाज़ा शुक्रिया अदा करती हूँ, इस साल और भी मुहब्बतों की मुन्तज़िर हूँ और इजाज़त लेने से पूर्व ख़ास तौर पर इन अलफ़ाज़ के साथ जवाब देना चाहती हूँ

इतने प्यारे बनो हर कोई तुम्हे प्यार करे
हो ज़बां ऐसी कि हर कोई ऐतबार करे
तुमसे इक बार मुलाक़ात जो करले तो 'हया'
फिर मिले दिल यही उसका हाँ बार-बार करे

आप सबसे फिर,बार-बार मिलने की चाह में नए साल की ढेरों शुभकामनाओं के साथ


चलते चलते :-

हाज़रीन, आज रात ( दो जनवरी ) बिरला आडिटोरियम मुंबई, में मुशाइरा है .उसी की तैय्यारी करते करते इस ग़ज़ल में दो शेर और हो गये, उन पर भी नज़र डाल लीजिये,कभी कभी कलाम मुकम्मल होने के बाद भी कुछ तश्नगी बाकि रह जाती है ,ये अशआर उसी तश्नगी का नतीजा है...


फ़क़त इसके सिवा इस साल-ए-नौ मैं और क्या मांगूं
अरे अब छोड़ भी नफ़रत,मोहब्बत भी ज़रूरी है

बनो नेता, चलो दिल्ली,पकड़ कुर्सी मगर ऐ जी!
ज़रा सी इस फ़साने में शराफ़त भी ज़रूरी है

48 comments:

  1. आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये.
    सुख आये जन के जीवन मे यत्न विधायक हो
    सब के हित मे बन्धु! वर्ष यह मंगलदयक हो.

    (अजीत जोगी की कविता के अंश)

    ReplyDelete
  2. नव-वर्ष की आपको भी समस्य शुभकामनायें, मै! खुदा करे आपकी लेखनी का जादू अपनी बुलंदी पर पहुँचे और हमें अपनी चकाचौंध से सराबोर करते रहे पूरे साल...!!!

    लता हया की कलम से निकला एक तेवर वाली ग़ज़ल। बहुत ही शानदार ग़ज़ल बुनी है, मै! हमारी दाद कबूल करें और खास कर इस शेर के तेवर ने मुग्ध कर दिया:-
    "हवा जब तक हवा है तब तलक ही दोस्ती रखना
    बने आंधी तो फिर उससे अदावत भी ज़रूरी है "

    बहुत खूब!!!!

    ReplyDelete
  3. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. आप को तथा आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. फ़क़त दौलत,मकां,रिश्ते,ज़मीं,शोहरत,ख़ुशी,दुनिया
    दिया जिसने 'कभी'उसकी इबादत भी ज़रूरी है

    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों से रची बेहतरीन रचना, नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  7. Baut sunder lata jee,
    Har ser apne aap me lajbab....
    Aese hi aapki kalam chalti rahe...
    Naw warsh bite khusiyon me har khusi jindagi me milti rahe.....!

    ReplyDelete
  8. नये साल की शुरुवात इस उम्दा रचना से हुई, बहुत आभार!!

    आप एवं आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    सादर

    समीर लाल

    ReplyDelete
  9. एक बहुत बेहतरीन रचना गंभीर भाव लिए हुए इसके आगे कुछ कह नहीं सकती क्योंकि मैं निशब्द हूँ
    नववर्ष पर हार्दिक बधाई आप व आपके परिवार की सुख और समृद्धि की कामना के साथ
    सादर रचना दीक्षित

    ReplyDelete
  10. आपके लिखे एक- एक शब्द ने हमको ऊर्जावान बना दिया.......किस शेर का ज़िक्र करें और कौन सा छोड़े .......चलते - चलते तो बस इतना ही कहेंगे हम .......उर्दू जुबा, अंदाज़-ए-बयां औ फन की सखावत ने हमको दीवाना बना दिया ........अगली धमाके दार रचना के इंतज़ार में -

    " प्रिया"

    ReplyDelete
  11. बहुत ख़ूब।
    आपको नव वर्ष 2010 की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  12. आदाब लता साहिबा
    क्या खूबसूरत मतला है-
    ये माना कि मुक़द्दर की इजाज़त भी ज़रूरी है
    मगर मंज़िल को पाना है तो मेहनत भी ज़रूरी है
    और
    ज़माने के मिज़ाज को कितने बेहतरीन अंदाज़ में पेश किया है-
    हवा जब तक हवा है तब तलक ही दोस्ती रखना
    बने आंधी तो फिर उससे अदावत भी ज़रूरी है
    उर्दू ज़बान से मुहब्बत का ये जज्बा-
    मैं अपनी गुफ़्तगू उर्दू बिना कर ही नहीं सकती
    'हया' के वास्ते इससे सख़ावत भी ज़रूरी है
    कहां तक कहें, हर शेर लाजवाब है....
    आपको नये साल की बहुत बहुत मुबारकबाद
    जज्बात पर भी तशरीफ लाईयेगा
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    ReplyDelete
  13. प्रिया जी ने जो कहा उससे आगे मेरा पास शब्द नहीं है. हर शेर नायाब. शुभान-अल्लाह.

    ReplyDelete
  14. नये वर्ष की शुभकामनाओं सहित

    आपसे अपेक्षा है कि आप हिन्दी के प्रति अपना मोह नहीं त्यागेंगे और ब्लाग संसार में नित सार्थक लेखन के प्रति सचेत रहेंगे।

    अपने ब्लाग लेखन को विस्तार देने के साथ-साथ नये लोगों को भी ब्लाग लेखन के प्रति जागरूक कर हिन्दी सेवा में अपना योगदान दें।

    आपका लेखन हम सभी को और सार्थकता प्रदान करे, इसी आशा के साथ

    डा0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

    जय-जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete

  15. अगर हो जान को ख़तरा औ ख़ुद्दारी ख़तर में हो
    पलट कर वार कर देना हिफाज़त भी ज़रूरी है

    बहुत सुन्दर शब्द. उपरोक्त पंक्तियाँ तो गीता के निम्न वाक्य की पुनरावृत्ति जैसी ही लगती हैं:
    ततो युद्धाय युज्यस्व नैवं पापमवाप्स्यसि

    आपको और आपके पाठकों को नव वर्ष की मंगल कामनाएँ!
    रचनाओं का तेज ऐसा ही बना रहे!

    ReplyDelete
  16. तुमसे इक बार मुलाक़ात जो करले तो 'हया'
    फिर मिले दिल यही उसका हाँ बार-बार करे
    kya baat hai..bahut khoob

    ReplyDelete
  17. तुमसे इक बार मुलाक़ात जो करले तो 'हया'
    फिर मिले दिल यही उसका हाँ बार-बार करे
    kya baat hai..bahut khoob

    ReplyDelete
  18. Neeraj Goswami to me
    show details Jan 2 (2 days ago)

    माशा अल्लाह मोहतरमा क्या बात है...आप शेर ही बेहतर नहीं कहतीं...कमेन्ट भी बेहतर करती हैं...जर्रा नवाजी का तहे दिल से शुक्रिया कबूल करें...
    नीरज

    ReplyDelete
  19. नया साल बहुत बहुत मुबारक हो ...

    ReplyDelete
  20. aapne siyasatdanon ko seekh dee vah kafi aham hai kyonki rajneenik vikriti sabhi mushkilat ki jarh hai. naye saal par aapko bahut bahut shubhkamanaen. ummeed hai aapki shairy ko is saal nai bulandi milegi.

    saheebaat.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. फ़क़त दौलत, मकां, रिश्ते, ज़मीं,शोहरत, ख़ुशी, दुनिया
    दिये जिसने सभी उसकी इबादत भी ज़रूरी है।
    ---खूबसूरत गज़ल का यह शेर वाकई बेहद उम्दा है।

    ReplyDelete
  22. तुमसे इक बार मुलाक़ात जो करले तो 'हया'
    फिर मिले दिल यही उसका हाँ बार-बार करे

    बेहतरीन...
    आपको नया साल बहुत-बहुत मुबारक हो...

    ReplyDelete
  23. हवा जब तक हवा है तब तलक ही दोस्ती रखना
    बने आंधी तो फिर उससे अदावत भी ज़रूरी है


    अगर हो जान को ख़तरा औ ख़ुद्दारी ख़तर में हो
    पलट कर वार कर देना हिफाज़त भी ज़रूरी है


    ये माना कि तअल्लुकात में कोई ग़रज़ ना हो
    मगर खुदगर्ज़ रिश्तों से सियासत भी ज़रूरी है


    WAAH !!! WAAH !!! WAAH !!! AAPKI IS RACHNA NE TO DIL LE LIYA....LAJAWAAB !!! BEHTAREEN !!! EK EK SHER ANMOL AISE RATN JISKI CHAKACHOUNDH SE AANKHEN AUR DIL DONO CHUNDHIYA GAYE....

    AAPKO BHI SAPARIWAAR NAV VARSH KI ANANT SHUBHKAMNAYEN....

    ReplyDelete
  24. " bahut hi badhiya ..kaunse ser ko no 1 kahu ye tay karna muskil ho gaya ...kaash ! muje bhi aapko sukriya kahne ke liye koi gazal ya ser aata ."

    " bahut bahut badhai .thanx ."

    " aaj to aapne dil jeet liya "

    " der se sahi HAPPY NEW YEAR to you & your family"

    ReplyDelete
  25. अब क्या कहें...निशब्द कर दिया.

    आज के कुछ शे'र मुझे हमेशा के लिए याद हो गए....

    जैसे...
    ये माना कि मुक़द्दर की इजाज़त भी ज़रूरी है
    मगर मंज़िल को पाना है तो मेहनत भी ज़रूरी है
    हवा जब तक हवा है तब तलक ही दोस्ती रखना
    बने आंधी तो फिर उससे अदावत भी ज़रूरी है

    aur...
    ये तो बहुत ही ख़ास है. खुश हूँ सुनकर.
    फ़क़त दौलत, मकां, रिश्ते, ज़मीं,शोहरत, ख़ुशी, दुनिया
    दिये जिसने सभी उसकी इबादत भी ज़रूरी है।

    शुक्रिया! शुक्रिया! शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  26. haya saheba ,adab ,
    kisi aik sher ki tareef karoon to shayad doosre ke saath nainsaafi ho jayegi ,maqta apki urdu se muhabbat ki ghammazi karta hai .
    saale nau apke liye dher sari khushiyan laye.ameen
    mera blog apke intezar men hai.

    ReplyDelete
  27. ahaaaaaa kya gazal hai
    padh kar man khush ho gaya

    "हवा जब तक हवा है तब तलक ही दोस्ती रखना
    बने आंधी तो फिर उससे अदावत भी ज़रूरी है "

    meri sarai duayen aap le lo
    aur bas likhti chle jaao

    nav varsh par aapko hardik shubhkamaanyen

    ReplyDelete
  28. लता जी, आदाब
    दोनों नये शेर भी लाजवाब हैं
    और ये 'प्यास' कभी बुझ सकी है भला?
    शायरी की प्यास है मोहतरमा, ऐसा सोचना भी नहीं
    वरना हम सामाईन की 'भूक' का क्या होगा
    शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

    ReplyDelete
  29. वाह जी वाह शब्दों को क्या ढालकर क्या खूबसूरत नजराना पेश किया है बहुत बढ़िया नव-वर्ष की ढेरो शुभकामनाये

    ReplyDelete
  30. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाये !

    ReplyDelete
  31. इतने प्यारे बनो हर कोई तुम्हे प्यार करे
    हो ज़बां ऐसी कि हर कोई ऐतबार करे
    तुमसे इक बार मुलाक़ात जो करले तो 'हया'
    फिर मिले दिल यही उसका हाँ बार-बार करे

    बेहतरीन...

    ReplyDelete
  32. बेहतरीन ग़ज़ल ह़या जी.... कमाल के शेर निकाले हैं आपने....

    और हां फोन न कर पाने की मुआफ़ी चाहता हूं दरअसल मौसमी ठंड व कोहरे की वज़ह से तिथि निश्चित नहीं हो पा रही है

    ReplyDelete
  33. Di, ab kitni baar ye kahoonga ki kamaal ka likha aapne... isliye yahi bolta hoon ki aapki qalam apna itihaas dohra rahi hai.. :)
    Happy New Year n wish more great success ahead.
    Apne kavita sangrah ka vimochan ho gaya hai, aap yahan dekh saktee hain-
    http://shivnaprakashan.blogspot.com/2010/01/blog-post.html
    plz apna address diziyega jisse ghar pe bol ke aapki prati send kara sakoon... main to wapas UK aa gaya.
    Jai Hind
    Aapka Anuj

    ReplyDelete
  34. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  35. मैं उर्दू नहीं जनता, मगर आपके कहे को समझने में भाषा आड़े नहीं आती. ये वो दर्द है जो कही नही जाती, पर जो कह दिया तो सही नहीं जाती. आपका शुक्रिया जो अपने पन्ने का दूसरा पहलु हमें दिखाया, वरना हम जान कर अंजान बने रहते.- शुक्रिया .

    ReplyDelete
  36. Jab kabhi aapko padhtee hun..alfaz kee mohtaj patee hun..khamosh ho jatee hun..

    ReplyDelete
  37. Sher-o-shayari me hume bhi dilchaspi hai. aapka andaz-e-bayan hume pasand aaya. aapke fan ho gaye.

    ReplyDelete
  38. teen saptah hogayee itana lamba antral theek nahee............
    vyast hai mana par itana intzaar karanakya hai sahee .........?
    :)

    ReplyDelete
  39. shabd naheen hain mere paas shaayad.....
    bahut umdaa......aapake blog par aakar achchha laga......

    waah....


    shukriya
    Gita

    ReplyDelete
  40. ये माना कि मुक़द्दर की इजाज़त भी ज़रूरी है
    मगर मंज़िल को पाना है तो मेहनत भी ज़रूरी है ....
    .......बेहतरीन ग़ज़ल ह़या जी....

    ReplyDelete
  41. chota munh badi baat hai..
    par phir bhi kehungi...kuch to jadoo hai ...

    ReplyDelete
  42. हवा जब तक हवा है तब तलक ही दोस्ती रखना
    बने आंधी तो फिर उससे अदावत भी ज़रूरी है
    Sach kaha hai apne---agar koi hamare liye khatara ban jay to usase vidroh karana hee padega.
    Poonam

    ReplyDelete
  43. naya hu is shahar mein, aap-se logo ki banai pagdandiyon par chalta hu. akele mein hi gungunata hu, barishon mein bhi patange udata hu...
    www.ni-shabd.blogspot.com

    ReplyDelete
  44. आपको सुना बहुत है लेकिन पड़ा आज , अचछी गजल पदाने के लिए सुक्रिया

    ReplyDelete
  45. apni gazlon ka apni awaz men audio bhi blog per daliye.khas ker urdu wali gazal.

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)