Friday, July 23, 2010

बन्दर क्या जानें अदरक का स्वाद

"शुक्रिया" एक ऐसा लफ़्ज़ है जिसका कोई सानी नहीं, कोई बदल नहीं ; कोई तारीफ़ करे तो "शुक्रिया" ; दुआ दे तो "शुक्रिया" ; बुरा करे तो "शुक्रिया" और बद्दुआ दे तो भी "शुक्रिया";तोहफ़ा दे तो "शुक्रिया"; आपकी मदद करे - ना करे ;मुलाक़ात करे-ना करे ; फोन करे-ना करे तो भी "शुक्रिया" ; तो जनाब आप सब का ,

"शुक्रिया" "शुक्रिया" "शुक्रिया"



आप सोचेंगे किसलिए भाई?ओफ़्फोह, जब हम किसी ख़ास मौक़े पर किसी को बधाई देते हैं तो वो पलट कर शुक्रिया अदा करता है ना? तो, दास्ताने-मुख़्तसर ये है कि .....

१२ जुलाई को मेरा ब्लॉग एक साल का हो गया ; अब ज़ाहिर सी बात है ये जानने के बाद तो आप उसे जन्म-दिन की बधाई देंगे ही ना? तो बस

"शुक्रिया" - "शुक्रिया" - "शुक्रिया"

अरे अब तो इतनी ख़ुशी मुझे अपने जन्म-दिन पर भी नहीं होती जितनी आज हो रही है ; बचपन में जरूर होती थी क्योंकि तब रिटर्न गिफ्ट का चलन नहीं था ; अब तो इस उत्सव में भी गिव एंड टेक की रस्म शामिल हो गयी ; ये पाश्चात्य सभ्यता का अंधानुकरण करते-करते हम अपनी बेलौस बेग़रज़ मुहब्बतों को कहाँ छोड़ आये हैं?
अब ऐसे मासूम , पाक-साफ़, स्वार्थ हीन रिश्ते तो सिर्फ अदबी परिवारों में ही नज़र आते हैं और उन्हीं से तअल्लुक़ रखते हैं : आप और हम -

"हैं जिनके पास अपने तो वो अपनों से झगड़ते हैं
नहीं जिनका कोई अपना वो अपनों को तरसते हैं
मगर ऐसे भी हैं कुछ पाक और बेग़रज़ से रिश्ते
जिन्हें तुमसे समझते हैं जिन्हें हमसे समझते हैं "

हाँ तो मैं कह रही थी कि मुझे ख़ुशी हो रही है और इस ख़ुशी के पीछे कई वजूहात हैं जैसे :-

१. अब मैं महफ़ूज़ हूँ
२. अब मुझे कोई नहीं चुरा सकता
३. अब मैं खो भी नहीं सकती
४. अब मैं जाविदाँ रहूंगी
५. जहाँ जाइएगा हमें पाइयेगा
६. अब तन्हाई भी मातम नहीं मनाती है , और
७. घर बैठे बैठे ही गोया नशस्त सी हो जाती है

अब ग़ज़ल के सात अशआर की तरह ये सातों कारण आपको ऊपरी तौर पर तो समझ आ गए होंगे लेकिन जनाब इसके पीछे छुपी है एक बहुत ही " ग़मग़ीन दास्तान" जो तमाम सबूतों के साथ मैं आपके सामने पेश करने वाली हूँ. जितना वक़्त लगा है मुझे वो सदमा भुलाने में , उस से ज्यादा वक़्त लगेगा आपको वो रुदाद सुनाने में ...लेकिन इस से क़ब्ल मैं अपनी पहली पोस्ट के पहले कमेन्ट करने वाले से लेकर मेरी अब तक की आख्रिरी पोस्ट के आखरी कमेन्ट करने वाले की तहेदिल से शुक्रगुज़ार हूँ और उनकी भी जो :-

१. नियमित रूप से आते हैं
२. जो कभी कभी आते हैं
३. जो अब बिलकुल नहीं आते
४. जो मेल भेज कर ग़ायब हो जाते हैं , और
५. जो सोचते हैं कि वो नहीं आते तो हम भी नहीं जाते
फिर भी आप सभी ब्लॉगर मुझे बहुत बहुत हैं भाते

क्यूंकि मैं भी सबको जवाब नहीं दे पाती - किसी को शायद एक बार भी न दिया हो लेकिन ये सब मसरूफ़ियत, ग़फ़लत , लापरवाही, सुस्ती या भूल की वजह से हुआ होगा वर्ना मेरी हरचंद कोशिश रहती है कि मैं आप सबसे जुड़ी रहूँ क्यूंकि:

जिस जगह लोग हों घर तो वही घर होता है
वर्ना दिल तो किसी जंगल सा नगर होता है
सिर्फ मेहनत नहीं काफ़ी यहाँ शोहरत के लिए
अपने लोगों की दुआ का भी असर होता है

तो बस इस साल सबसे पहले येही काम होगा ; आप सबको कहाँ से ढूंढ - ढूंढ कर मिलूंगी- कुछ सवालात, आपत्तियों, शंकाओं...जिनका जवाब उधार रह गया था ; वो क़र्ज़ उतारूंगी और-और-और उन सबको आप सबकी तरफ से कड़ा जवाब भी दूँगी जो अक्सर पूछते हैं :-

१. अरे आपने ब्लॉग क्यूँ खोला ?
२. क्या ज़रुरत है, मंच है ना?
३. कैसे मेंटेन करती हैं ये सब?
४. वक्त मिल जाता है सबको पढने पढ़ाने का ?

तो भाई इन सबका एक ही जवाब है :-


"बन्दर क्या जानें अदरक का स्वाद"

सही है ना? अपनों के बीच रहने, उनसे मिलने- गुफ़्तगू करने, जुड़ने का अपना ही मज़ा है और अब तो हम सब एक परिवार हो गए हैं , आप सबके नाम और कलाम मेरे दिलो-दिमाग़ पर नक़्श हो गए हैं; आप सबके जज़्बात, रचनात्मक मेहनत, मुहब्बत, दुआएं, सुझाव मुझे अचंभित और हर्षित कर जाते हैं ;-

दीपक 'मशाल' सा प्यारा भाई, इस्मत ज़ैदी साहिबा सी आपा, प्रिया सी दोस्त, तुलसी भाई के बच्चों के प्यारे प्यारे मेल, शाहिद मिर्ज़ा साहब जैसे खैरख्वाह, सुभाष नीरव जैसे अदबी, उड़न तश्तरी जैसे मार्गदर्शक और स्मार्ट इंडियन जैसे स्मार्ट भाई,सुलभ भाई जैसे तकनिकी सलाहकार , रंजना, रचना, शमा, सदा,संगीता जैसी बहिने, आप सबके ब्लॉग गुरु पंकज सुबीर जी....उफ्फफ्फ्फ़...किस किसका नाम लूं - किसे छोडूँ - किसे?? और इस परिवार में मुझे शामिल करने का श्रेय जाता है मेरे भाई " नीरज गोस्वामी ' जी को, जो हाथ धो कर और लठ्ठ लेकर मेरे पीछे पड़ गए थे कि - ब्लॉग खोलो -ब्लॉग खोलो- ब्लॉग खोलो- और आखिर 12 जुलाई २००९ को ये नेक काम उनकी मदद से कर ही डाला; बस पहुँच गयी खोपोली तब से जो आने जाने और उनको परेशान करने का सिलसिला चालू है - मैं उनसे कहती हूँ कि "आपने शेरनी के मुंह खून लगा ही दिया है तो भुगतो" और वो भी हंस कर कहते हैं कि "सर ऊखली में दिया तो मूसली से क्या डरना?"

अरे हाँ वो रुदाद जो मैं पीछे छोड़ आई थी वो भी तो आपको सुनानी है- जिसने मुझे ये ब्लॉग खोलने पर मजबूर किया , लेकिन आज नहीं अगली पोस्ट में - क्रमशः ....
तब तक आप सबकी एक वर्षीय मुहब्बत के नाम एक ग़ज़ल :-

ये मुहब्बत तो मौला की सौग़ात है
वर्ना मै क्या हूँ क्या मेरी औक़ात है

गर है जन्नत ज़मीं पे तो बस है यहीं
आप हम है,ग़ज़ल है,हसीं रात है

मेरे आंगन जो बरसे फ़क़त आब है
तेरे आंगन जो बरसे वो बरसात है

(इसी क़ाफ़िए का एक और शेर)

मेरी आँखों में छाए घटा शर्म की
तेरी आँखों में रिमझिम है बरसात है

मैंने देखे है लाखो सुख़नवर मगर
आपकी बात बस आपकी बात है

हम अदीबो का मज़हब फ़क़त प्यार है
हम सभी की फ़क़त एक ही ज़ात है

तुम से मिलते हुए अब भी आये "हया"
ऐसा लगता है पहली मुलाक़ात है -


बेलौस -बिना किसी लालच के
आब-पानी
दास्ताने-मुख़्तसर -छोटी कहानी
सुख़नवर-अदब नवाज़
रूदाद-दुःख भरी कहानी

41 comments:

  1. हया जी ,
    आपको आपके ब्लॉग के जन्मदिन की बधाई और शुभकामनायें ...
    खूबसूरत गज़ल के साथ आगाज़ किया है जन्मदिन का....

    ReplyDelete
  2. आप वाक़ई बहुत सुन्दर लिखती हैं!

    ReplyDelete
  3. blog ke ek saal pure hone ki bahut bahut shubhkamnayen !

    ReplyDelete
  4. Wah! Maza aa gaya aaj kee post padhte padhte!
    Blog kee saalgiraah bahut,bahut mubarak ho!

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत शुभकामनायें इस उपलब्धि के लिये।

    ReplyDelete
  6. "आपने शेरनी के मुंह खून लगा ही दिया है तो भुगतो" और वो भी हंस कर कहते हैं कि "सर ऊखली में दिया तो मूसली से क्या डरना?"

    ब्लॉग की वर्षगाँठ पर बधाई - लेखनी के नए रूप से रूबरू कराने के लिए आभार

    ReplyDelete
  7. शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  8. ये मुहब्बत तो मौला की सौग़ात है
    वर्ना मै क्या हूँ क्या मेरी औक़ात है

    गर है जन्नत ज़मीं पे तो बस है यहीं
    आप हम है,ग़ज़ल है,हसीं रात है
    हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें।

    ReplyDelete
  9. निश्चय ही कम्प्लीट-पोस्ट की ओर बढ़ती पोस्ट ! आभार !

    ReplyDelete
  10. लता जी....
    हमेशा कि तरह फिर लाजवाब ग़ज़ल........मुद्दत से आपको सुनता चला आ रहा हूँ. हर बार बेहतरीन तरीके से ग़ज़ल पेश करती हैं.....गज़ब का अंदाज़ है आपका . अब इसी ग़ज़ल को लें....मतला ही जान लेवा है
    ये मुहब्बत तो मौला की सौग़ात है
    वर्ना मै क्या हूँ क्या मेरी औक़ात है

    जो कुछ रहा बचा था तो ये तीन शेर लूट ले गए....

    मेरे आंगन जो बरसे फ़क़त आब है
    तेरे आंगन जो बरसे वो बरसात है


    हम अदीबो का मज़हब फ़क़त प्यार है
    हम सभी की फ़क़त एक ही ज़ात है

    तुम से मिलते हुए अब भी आये "हया"
    और यूँ लगता है पहली मुलाक़ात है -
    हमारी दिली दाद क़ुबूल करें

    ReplyDelete
  11. मैं आप सभी का आपके ब्लॉग पर जाकर शुक्रिया अदा करना चाहती हूँ मगर मेरा लैपटॉप और key pad ठीक से काम नहीं कर रहा , इसी वजह से मैं पिछली मर्तबा भी किसीको जवाब नहीं दे पायी थी , आशा करती हूँ आप सभी मेरी मजबूरी समझते हुए मुझे मुआफ़ करेंगे ,ये पोस्ट भी नीरज भय्या की मदद से आप तक पहुंचा पायी हूँ .आप सबको पढ़ने के लिए मैं भी बहुत बेक़रार हूँ मगर अभी तो मजबूरी का नाम .................लता 'हया' .

    ReplyDelete
  12. सब से पहले तो मुबारकबाद क़ुबूल फ़र्रमाएं


    मैंने देखे है लाखो सुख़नवर मगर
    आपकी बात बस आपकी बात है
    यही बात हम आप के लिये कहते हैं कि -आप की बात बस आप की बात है एक अलग ही अंदाज़ है आप का जो क़ारी को अपनी तरफ़ खींच ही लेता है

    हम अदीबो का मज़हब फ़क़त प्यार है
    हम सभी की फ़क़त एक ही ज़ात है
    बिल्कुल सही कहा आप ने हम लोगों के लिये समाज का दुख दर्द अपना दर्द बन जाता है इसीलिए ऐसी तख़लीक़ात मंज़र ए आम पर आ पाती हैं

    आप ने अपने क़रीबी लोगों में मेरा नाम लिया ,बहुत बहुत शुक्रिया
    बड़ा फ़ख़्र सा महसूस हुआ ,ख़ुदा हम सब पर हमारे रिश्तों पर अपनी रहमत बनाए रखे बस यही दुआ है

    ReplyDelete
  13. मैंने देखे है लाखो सुख़नवर मगर
    आपकी बात बस आपकी बात है
    हम अदीबो का मज़हब फ़क़त प्यार है
    ---

    !! लता 'हया' जिंदाबाद !!

    ReplyDelete
  14. आपके ब्लॉग के एक साल पूरे होने पर बहुत बहुत शुभकामनाये.... बहुत ही खूबसूरती से आपने लब्जो को सजाया है..! शुक्रिया

    ReplyDelete
  15. मुबारकबाद और अच्छे मुस्तक़्बिल के लिये अल्लाह से दुआ.

    ReplyDelete
  16. ग़ज़ल हमेशा की तरह .... लाजवाब !

    ReplyDelete
  17. बधाईयाँ!
    आग्रह है कि नियमितता बढ़ाएँ और अपना समस्त रचना संसार यहाँ प्रकाशित करें.

    ReplyDelete
  18. लता जी आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ...आपको पढ़ा...आपको जाना अच्छा लगा. आपकी गज़ल तो उम्दा है ही आपकी शमशीर में भी काफी तेज धार है.

    आना होता रहेगा.
    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  19. Lata ji aap bahut sweat hain...kai baar jab ham bahut kuch kahna chahte hain to bole nahi paate....Nahi kar paayenge khud ko express...lekin aapke shabd seedhe dil tak jaate hain....yahi dua hai ki lekhi aur apka naam yugo-yugo tak roshan rahe.

    Aameen

    ReplyDelete
  20. दी सबसे पहले तो देरी से आ पाने के लिए कान खिंचवाने के लिए तैयार हूँ... पर आजकल कुछ व्यस्तता ज्यादा होने की वजह से ब्लॉगदुनिया से थोड़ी सी दूरी बना रखी है, दिल तो नहीं चाहता पर क्या करें मजबूरी है... आपकी ग़ज़ल ने वो सब बातें चंद शेरों में कह दीं जो-जो आप कहना चाहती थीं. पढ़ते-पढ़ते एक जगह नज़र धुंधला भी गई जब देखा कि मेरी दी इतनी व्यस्तता के बाद भी इस भाई को याद रखती हैं. अब शुक्रगुज़ार करके इस रिश्ते को हल्का करने की कोशिश नहीं करूंगा.. मेरी दी की खूबसूरत सोच और गजलों को मंचित करने वाले इस ब्लॉग की सालगिरह पर लख-लख बधाइयां.. ईश्वर करे इस ब्लॉग की गिरहें इसी तरह बंधती जाएँ, बढ़ती जाएँ और साथ-साथ जीवन से मुश्किलों, तकलीफों की गिरहें खुलती जाएँ..

    ReplyDelete
  21. "हैं जिनके पास अपने तो वो अपनों से झगड़ते हैं
    नहीं जिनका कोई अपना वो अपनों को तरसते हैं

    सच है बहुत इस शेर में ....
    आपको एक वर्ष पूरा होने पर बधाई ....

    ReplyDelete
  22. बधाई...........
    यहाँ आकर "अपने" बनाने का भी अपना अलग मजा है .....

    ReplyDelete
  23. मैंने देखे है लाखो सुख़नवर मगर
    आपकी बात बस आपकी बात है...
    !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
    हम तो ये शेर यूं पढ़ेंगे.......
    हमने देखे है लाखों सुख़नवर ’हया’
    आपकी बात बस आपकी बात है...
    आपकी इज़ाजत तो है न...

    हम अदीबो का मज़हब फ़क़त प्यार है
    हम सभी की फ़क़त एक ही ज़ात है...
    ब्लॉगिंग की पहली सालगिरह पर आपने
    इस शेर की शक़्ल में....
    अदबी दुनिया को नायाब तोहफ़ा इनायत फ़रमाया है.....
    ये सिलसिला सालो-साल चलता रहे.....आमीन

    ReplyDelete
  24. लता जी एक वर्ष की सफलता पर आपको बहुत बहुत बधाई। आपको मैंने ई टीवी पर सुना है और अक्सर सुनता रहता हूं। उर्दू को लेकर पढ़ी गई गजल को तो मंैने मोबाइल तक में डाल रखा हैं। आपके शेर को मैं अक्सर फेसबुक पर आपके नाम के साथ दूसरों से शेयर करता रहता हूं। यही दुआ है आपकी आवाज यू ही गूंजती रहे और हमें अच्छे शेर पढने को मिलते रहैं।

    ReplyDelete
  25. मैंनें आपके बारे मैं कुछ अपने ब्लाग पर लिखने की कोशिश की हैं। इसको आप मेरे लिंक पर देख सकती हैं।
    http://sanjayjhabua.blogspot.com/

    ReplyDelete
  26. इतने जोरदार रिटर्न गिफ्ट के सामने हम क्या गिफ्ट दें समझ नहीं आ रहा...
    चलिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि आपकी ये यात्रा निर्विघ्न अबाध चलती रहे..सार्थक लिखती रहें ,साहित्य को समृद्धि देती रहें...

    बहुत बहुत शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  27. अब आपके बीच आ चूका है ब्लॉग जगत का नया अवतार www.apnivani.com
    आप अपना एकाउंट बना कर अपने ब्लॉग, फोटो, विडियो, ऑडियो, टिप्पड़ी लोगो के बीच शेयर कर सकते हैं !
    इसके साथ ही www.apnivani.com पहली हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट है| जन्हा आपको प्रोफाइल बनाने की सारी सुविधाएँ मिलेंगी!

    धनयवाद ...
    आप की अपनी www.apnivani.com टीम

    ReplyDelete
  28. " lajawab prastuti,der se aane ke liye maafi chahta hu dher saari khusiyaan de gayi aapki post mere baccho ko ..bade lambe arse ke baad maine dekhi muskurahat apne baccho ke chahere per ."

    thanx didi, mere pariwar ki aur se aapka tahe dil se sukriya "

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. मोहतरमा...दोहरी खुशियाँ मिली हैं हमें...एक तो ब्लॉग के पहले जन्म दिन की और दूसरी इस मौके पर इतनी खूबसूरत ग़ज़ल की...मैंने तो सिर्फ पटरियां डालीं हैं उसपर धडधडाती रेल तो आप अपने हुनर से ही चला रहीं हैं...दुआ करता हूँ के आपका ये सफ़र यूँ ही दिलकश अंदाज़ में चलता रहे...आमीन.
    नीरज

    ReplyDelete
  30. lata ji idhar kuchh niji vystataon ke karan aapke aur poste nahi padh saki iske liye dil se maafi chahati hun.
    sarve pratham aapko aapki blog ke varshgaanth par hardik badhai.
    hamesha ki tarah aapki yah gazal behatreen lagin
    khaskar ye panktiyan-----
    ये मुहब्बत तो मौला की सौग़ात है
    वर्ना मै क्या हूँ क्या मेरी औक़ात है

    गर है जन्नत ज़मीं पे तो बस है यहीं
    आप हम है,ग़ज़ल है,हसीं रात है
    हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें।
    poonam

    ReplyDelete
  31. mazaa aa gaya apka lekh pad kar to.....
    shukriya share karne k liye..

    Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

    A Silent Silence : Naani ki sunaai wo kahani..

    Banned Area News : Dimpy Mahajan To Appear In A Special Episode Of 'Meethi Choori No1'

    ReplyDelete
  32. हया जी, आपकी इस ताज़ा पोस्ट पर देर से आया। वाकई आपने तो 'शुक्रिया' के बहाने बहुत सुन्दर पोस्ट लगा दी। आपने भले ही पहले ही शुक्रिया कर दिया है पर मैं तो फिर भी आपको बधाई दूंगा और दिल से दूंगा कि आपके ब्लॉग को एक वर्ष हो गया है। और मैं भी आपका तहे-दिल से शुक्रिया करना चाहता हूँ कि आपने चंद नामों में मुझ नाचीज को भी याद किया। हम तो अच्छी शायरी और अच्छे लेखन के आशिक हैं और इसमें यकीनन दो राय नहीं कि आप शायरा भी बहुत अच्छी हैं और लिखती भी बहुत खूब हैं…
    खुदा से यही इल्तज़ा है कि आप उम्र-दराज हों और इसी तरह बेहतरीन शायरी के परचम फहराती रहें।

    ReplyDelete
  33. www.tariqraheel.blogspot.com
    www.tariqraheel.wordpress.pk
    www.funworld.wordpress.pk
    www.showtime.wordpress.pk
    www.sweetjaveria.wordpress.com
    www.sweetjaveria.blogspot.com
    www.swwepk.com
    +923332161732
    MuhammadTariq@cresplus.com
    TariqRaheel@HotMail.Com
    TariqRaheel@Live.Com
    MuhammadTariqRaheel@HotMail.Com
    MTariqRaheel@GMail.Com

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)