Tuesday, August 25, 2009

मुहब्बत हूँ




मेरे दिल पर किसी की भी हुकूमत चल नहीं सकती
मुहब्बत हूँ मेरे आँचल में नफ़रत पल नहीं सकती

करोगे इश्क़ नफ़रत से तो धोखा खाओगे इक दिन
मुहब्बत नाम की औरत कभी भी छल नहीं सकती

उन्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती

मैं जब कुछ कर नहीं सकती तो फिर ये सोच लेती हूँ
मुक़द्दर में यही है और होनी टल नहीं सकती

न जाने कौन है जिनको बुराई रास आती है
'हया' को तो गुनाह की एक पाई फल नहीं सकती

53 comments:

  1. मेरे दिल पर किसी भी हुकूमत चल नहीं सकती
    यहाँ ये तो नहीं लिखना चाह रहीं थीं
    मेरे दिल पर किसी की भी हुकूमत चल नहीं सकती
    बहुत खूब
    इश्क की हुकूमत तो चल सकती है न ?
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती
    सबसे खूबसूरत पंक्ति

    ReplyDelete
  2. उन्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती

    क्या बात है लता जी। हर एक शेर अपने आप में खूबसूरत है। आप बहुत अच्छा लिखतीं हैं और आपको पढ़ना सुखद लगता है। मैं भी सुर मिलाने की कोशिश करता हूँ-

    नई तरकीब से तुमने लगायी आग बस्ती में
    मुहब्बत है मेरी चाहत कभी भी जल नहीं सकती

    ReplyDelete
  3. मेरे दिल पर किसी भी हुकूमत चल नहीं सकती
    मुहब्बत हूँ मेरे आँचल में नफ़रत पल नहीं सकती

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति से लबरेज रचना धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. मेरे दिल पर किसी भी हुकूमत चल नहीं सकती
    मुहब्बत हूँ मेरे आँचल में नफ़रत पल नहीं सकती

    वाह लता जी क्या लिखा है आपने। सच बाताऊं आपकी ये रचना दिल को छु गयी। लाजवाब

    ReplyDelete
  5. It takes courage to write " Haya ko gunaah ki ek paai bhi fal nahin saktee" when we are in aworld where there is so much curreption around us.
    Thanks
    Akshaya

    ReplyDelete

  6. चलिये जी, दिल पर हुकूमत न करवाइये,
    पर किसी रोज किसी की बादशाहत तो मँज़ूर ज़रूर ही करेंगी :)

    ReplyDelete
  7. सारे के सारे शेर बेहद खूबसूरत...मुझे बहुत पसंद आई ग़ज़ल

    ReplyDelete
  8. शारदा जी शुक्रगुज़ार हूँ , आपने मेरी गलती की और इशारा किया, मैंने वो गलती सुधार ली है.
    हया

    ReplyDelete
  9. लता "हया" जी,

    अच्छी रचना है, दर्शन झलकता है अश’आरों से।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. "मेरे दिल पर किसी की भी हुकूमत चल नहीं सकती
    मुहब्बत हूँ मेरे आँचल में नफ़रत पल नहीं सकती "

    इस गज़ल की प्रशंसा करने के लिए तो मेरे शब्द ही कम पड़ जाते है। बस यही कह सकता हूँ-
    "बेहतरीन!"

    ReplyDelete
  12. Sirf ekhee lafz hai..' waah !

    ReplyDelete
  13. न जाने कौन है जिनको बुराई रास आती है
    'हया' को तो गुनाह की एक पाई फल नहीं सकती
    स्वागत है ऐसे महँ विचारों का.
    पूरी ग़ज़ल के हर शेर काबिले तारीफ हैं.
    बधाई स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  14. Lata ji, yu to gazal ke sare sher bahut hi khoobsoorat hai but 1st and 4th ko ham apne pasandida sher mein rakhna chahenge..... aap serial bhi kar rahi hai....ye to aapki post se pata chala.....T.V soap nahi dekhti.....but aap ke khatir dekhenge :-) good luck.. Priya

    ReplyDelete
  15. लता 'हया'जी
    --------------------------------------------
    करोगे इश्क़ नफ़रत से तो धोखा खाओगे इक दिन
    मुहब्बत नाम की औरत कभी भी छल नहीं सकती
    --------------------------------------------
    सचमुच में बहुत ही प्रभावशाली लेखन है... वाह…!!! वाकई आपने बहुत अच्छी गजल लिखी है।

    आशा है आपकी कलम इसी तरह चलती रहेगी, बधाई स्वीकारें।
    महावीर बी सेमलानी ''भारती''

    आभार
    हे! प्रभु यह तेरापन्थ
    मुम्बई-टाईगर

    ReplyDelete
  16. मेरे दिल पर किसी की भी हुकूमत चल नहीं सकती
    मुहब्बत हूँ मेरे आँचल में नफ़रत पल नहीं सकती
    बहुत खूब ,बेहतरीन गजल

    ReplyDelete
  17. मतला से मक्ता तक बेहद प्रभावित करते शेर कहे आपने

    हार्दिक बधाई

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  18. आप बहुत अच्छा लिखती हैं और गला भी ऊपरवाले ने उतना ही सुंदर दिया है आपको। बहुत आनंद आता अगर आप अपनी आवाज में भी रिकार्ड करके यहां लगा देतीं। पूरी गज़ल सुंदर है, हर शेर पर तालियां।

    ReplyDelete
  19. उन्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती


    ... बेहतरीन पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  20. टीवी सोप्स देखने की आदत नहीं है, पर आज पत्नी जी ने आपकी ये पोस्ट पढने के बाद ये सीरियल दिखाया मुझे.. :)

    अच्छा है..

    ReplyDelete
  21. लताजी, आदाब.
    बहुत खुशी हुई आप जैसी मशहूर-मारूफ हस्ती को ब्लॉग पर देख कर. यकीन हो गया कि ब्लॉग वाकई बुलंदी पर है. आप को एक जमाने तक सुना-पढा है. आज अचानक आप का ब्लॉग देख कर जो खुशी हुई, वो नाकाबिले-बयान है. आप के अशआर की तारीफ किन अल्फाज़ में करूं, अच्छी चीज़ें बोलती बंद कर देती हैं. सिर्फ इतना ही कहूँगा--मुबारकबाद.

    ReplyDelete
  22. आपके इस लाजवाब ग़ज़ल का एक एक शेर दिल पर कितने गहरे उतर अंकित हो गया अब क्या कहूँ...वाह वाह कहते मन थक नहीं रहा......वाह !!!

    ReplyDelete
  23. खूबसूरत अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  24. करोगे इश्क़ नफ़रत से तो धोखा खाओगे इक दिन
    मुहब्बत नाम की औरत कभी भी छल नहीं सकती

    ahut sunder...

    ReplyDelete
  25. मेरे दिल पर किसी की भी हुकूमत चल नहीं सकती
    मुहब्बत हूँ मेरे आँचल में नफ़रत पल नहीं सकती
    करोगे इश्क़ नफ़रत से तो धोखा खाओगे इक दिन
    मुहब्बत नाम की औरत कभी भी छल नहीं सकती
    उन्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती
    मैं जब कुछ कर नहीं सकती तो फिर ये सोच लेती हूँ
    मुक़द्दर में यही है और होनी टल नहीं सकती
    न जाने कौन है जिनको बुराई रास आती है
    'हया' को तो गुनाह की एक पाई फल नहीं सकती


    देर से आता हूँ तुम्हारे शेर तक
    फिर डूबा रहता हूँ बड़ी देर तक

    हया है या आशियाना ए बया है
    बुनतीहो ख्यालात गुलाबोके ढेरतक

    ReplyDelete
  26. हया जी आप चर्चा पर पधारीं, आपका तहे-दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ। आपकी प्रतिक्रिया और सुझाव यदि कोई हो तो हमें अवश्य भेजें।

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  27. करोगे इश्क़ नफ़रत से तो धोखा खाओगे इक दिन
    मुहब्बत नाम की औरत कभी भी छल नहीं सकती ....

    bahut badiya haya ji...
    waise to poori ghazal mukamil hai par ye sher khaas taur par accha laga...

    yun hi likhte rahiyea.

    ReplyDelete
  28. मैं जब कुछ कर नहीं सकती तो फिर ये सोच लेती हूँ
    मुक़द्दर में यही है और होनी टल नहीं सकती ...bahut achha likhti hai aap....

    ReplyDelete
  29. wow you are a wonderful poet...this creation was very beautiful

    ReplyDelete
  30. न जाने कौन है जिनको बुराई रास आती है
    'हया' को तो गुनाह की एक पाई फल नहीं सकती

    bahut hi sundar sarahneey bhav. badhai!

    ReplyDelete
  31. शानदार गज़ल
    मेरे ब्लोग की प्रथम वर्षगांठ पर आप सभी मेरे ब्लोग पर पधार कर मुझे आशीश देकर प्रोत्साहित करें ।
    ” मेरी कलाकृतियों को आपका विश्वास मिला
    बीत गया साल आप लोगों का इतना प्यार मिला”

    ReplyDelete
  32. aap ko bahut baar suna hai.. har baar ek nayi kashish ke sath aur behatar paaya hai...bahut khoob..aap ki gazal..

    ReplyDelete
  33. लता जी नमस्कार
    आपका बहुँत - बहुँत शुक्रिया की आप बच्चों की ब्लॉग पर आई....
    आपकी ये हौसला अफजाई निश्चय ही बच्चो को और लिखने की प्रेरणा के साथ - साथ..
    उनमे उत्साह का संचार भी करेगा.....
    उन्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती ....
    क्या खूब लिखा आपने... ये बात दिलको छू गई...
    किसी ने सही कहा है..
    एक हमारी और एक उनकी, मुल्क में है आवाजे दो...
    अब तुम पर है कौन सी तुम आवाज सुनो तुम क्या मानों....
    हम कहते है इंसानों में इंसानों सा प्यार रहे ...
    वो कहते है हाथो में त्रिशूल रहे तलवार रहे.....
    आपकी नज्म, गीत, गजल दुनिया में अम्न, साम्प्रदायिक सदभाव, मुहब्बत और भाईचारे का सन्देश फैलाती रहेंगी....
    इन्ही शुभकामनाओं के साथ.....
    महेश

    ReplyDelete
  34. लता जी, आपकी बुलन्द आवाज़,बुलन्द विचार,बुलन्द शायरी व हया पसन्द आई.

    ReplyDelete
  35. न्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती

    KHOOBSORAT SHER HAI YE ......... POORI KI POORI GAZAL KAMAAL KI HAI ... BADHAAI

    ReplyDelete
  36. आदरणीय
    अभिनन्दन,
    आपको देखकर तो मैं चौंक ही गया यहाँ पे, अरे! आपको तो मैं पूरे जाल पर पता नहीं कहाँ कहाँ न तलाश-तलाश कर सुनता हूँ...और अब क्या कहूं और आपके लेखन पर क्या प्रतिक्रिया दूं...शब्द कहीं खो से गए हैं...पढ़ते रहना चाहूंगा...बस...
    शुभकामनाओं सहित;
    AMIT K SAGAR
    ----
    आप हैं उल्टा तीर के लेखक / लेखिका? [उल्टा तीर] please visit: http://ultateer.blogspot.com

    ReplyDelete
  37. लता ‘हया’ जी ,
    नमस्कार,
    आप की ग़ज़लों के बारे में क्या कहूँ...एक से बढ़कर एक शेर..किस की तारीफ़ न करूँ...

    ReplyDelete
  38. बहुत प्यारी गजल कही है आपने।
    { Treasurer-S, T }

    ReplyDelete
  39. उन्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती
    bahut hi sunder gajal hai !

    ReplyDelete
  40. देर से आयी हूँ मगर देर आये दुरुस्त आये बहुत् सुन्दर गज़ल है बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  41. kyaa baat hai....umdaa.....khubsurat.....badhiya. ......bahut hi badhiyaa....sach....!!

    ReplyDelete
  42. उन्हें हिंसा गवारा है, हमें इंसान प्यारा है
    कभी इंसानियत खूनी सड़क पर चल नहीं सकती
    Lata ji ,
    apke blog par pahalee bar ayee hoon.par lagata hai ab to-----
    is anjuman men ana hai bar bar.....
    apkee gazalon ne mera man moh liya.hardik badhai aise lekhan ke liye ..apake seeriyals bhee main dekhatee rahatee hoon.
    kabhee samya mile to mere blog par bhee ek nazar daliyega.apaka hardik svagat hai.
    Poonam

    ReplyDelete
  43. अदाएं आशिकों की 'जान' तो होती नहीं चम्पक,
    अदाएं 'जान' ले, शम्मे-हंसी की शान होती है....
    कभी कोई ग़ज़ल हालात पे शायर अगर लिख दे,
    अगर शायर न हो शामिल ग़ज़ल बेजान होती है....

    ReplyDelete

हिंदी में अपने विचार दें

Type in Hindi (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi)